Categories: विचार

अमर शहीद महावीर सिंह का बलिदान याद रखेगा हिंदुस्तान

अतुल्य लोकतंत्र के लिए ज्ञानेन्द्र की कलम से : उत्तर प्रदेश के एटा जिले के राजा का रामपुर क्षेत्र के शाहपुर टहला गांव में राजपूती परिवार ठाकुर देवी सिंह राठौर के यहां 16 सितंबर 1904 को एक बालक का जन्म हुआ जिसका नाम रखा गया महावीर। अब यह गांव कासगंज जिले के अंतर्गत आता है। कहते हैं बालक महावीर में अन्याय के खिलाफ लड़ मरने की भावना बचपन से ही कूट कूट कर भरी हुई थी। राजा के रामपुर से प्राथमिक शिक्षा के बाद महावीर सिंह ने एटा के राजकीय इंटर कॉलेज में अध्ययन किया और फिर आगे की पढाई के लिये कानपुर चले गये , जहां डी ए वी कॉलेज में अध्ययन के दौरान इनका क्रांतिकारियों से संपर्क हुआ।

महावीर सिंह का बचपन घर में ही देशभक्ति के माहौल में बीता। कानपुर में क्रान्तिकारियो के सानिध्य से आजादी के लिए कुछ कर गुजरने के जज्बे को नयी राह मिली और ये पूरी तरह अंग्रेजों के विरुद्ध क्रांतिकारी संघर्ष में कूद पड़े।

इनकी गतिविधियों की जानकारी जब इनके पिता देवी सिंह को मिली तो उन्होंने
विरोध की जगह अपने पुत्र को देश के लिये बलिदान होने के लिये आशीर्वाद ही दिया।

गौरतलब है कि अनेकों क्रांतिकारी उनके गाँव के घर में कई बार रुके थे। सरदार भगत सिंह तक खुद 3 दिन तक शाहपुर टहला उनके घर में छिपकर रहे थे।

काकोरी और सांडर्स कांड के बाद वह अंग्रेज़ों के लिये चुनौती बन गए थे। उन्होंने सांडर्स की हत्या के बाद भगत सिंह को लाहौर से निकालने में सक्रिय भूमिका निभाई थी। 1929 में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और अन्य क्रान्तिकारियो के साथ काला पानी की सजा सुनाई गई।

उस दौरान अंडमान जेल में क्रांन्तिकारियों को अनेक यातनाऐं दी जाती थीं। यातनाओं, बदसलूकी और बदइंतजामी के खिलाफ जेल में बंद क्रांतिकारियों ने भूख हड़ताल शुरू कर दी।

अंग्रेज़ों ने इनकी भूख हड़ताल को तोड़ने की भरसक कोशिशें कीं लेकिन वह नाकाम रहे। बन्दियों को जबरदस्ती खाना खिलाने का भी प्रयास किया गया , लेकिन उसमें भी गोरे अंग्रेज नाकाम रहे।

उन्होंने महावीर सिंह की भी भूख हड़ताल तुड़वाने की बहुत कोशिशें की, उन्हें अनेकों लालच भी दिए, यातनाएं दीं लेकिन वह अपने निर्णय से टस से मस नहीं हुए। लाख कोशिशों के बावजूद अंग्रेज महावीर सिंह की भूख हड़ताल नहीं तुड़वा सके। अंग्रेज़ों ने फिर जबरदस्ती करके उनके मुँह में खाना ठूंसने की कोशिशें कीं, इसमें भी वो सफल नहीं हो पाए।

इस बारे में अनेकों किंवदंतियां हैं। कुछ के अनुसार इसके बाद अंग्रेजों ने नली के द्वारा नाक से उन्हें जबरदस्ती दूध पिलाने की कोशिश की । इस प्रक्रिया में उन्हें जमीन पर गिराकर 8 पुलिसवालों ने पकड़ रखा था।

हठी महावीर सिंह राठौड़ ने पूरी जान लगाकर उनका विरोध किया जिससे दूध उनके फेफड़ों में चला गया । नतीजतन इससे तड़प तड़पकर उनकी 17 मई 1933 को मृत्यु हो गई ।

कुछ बंदी क्रांतिकारी कैदियों के द्वारा बाद में दी गयी जानकारी के अनुसार अंग्रेजों द्वारा उनका अनशन तुड़वाने की ख़ातिर जबरन खाना खिलाये जाने से क्रुद्ध होकर बलिष्ठ शरीर के स्वामी महावीर सिंह ने पकड़े सिपाहियों को धक्का देकर जेलर को पकड़ लिया और उसे बीच से चीर दिया। बाद में उन्हें वहीं फांसी दे दी गयी और उनके शव को पत्थरों से बांधकर समुद्र में फेंक दिया। उनकी मृत्यु की तारीख के बारे में भी विवाद है, कुछ जानकार उनकी मृत्यु 17 मई 1933 बताते हैं तो कुछ 16 अगस्त 1933।

दुःख की बात है कि महावीर सिंह राठौड़ ऐसे ही एक राजपूत योद्धा थे जिनकी शहादत से आज भी बहुत कम लोग परिचित हैं। उनके परिवार को भी उनकी राष्ट्रभक्ति की कीमत भीषण यातनाओं के रूप में चुकानी पड़ी। अंग्रेज़ों की यातनाओ से तंग आकर उनके परिवार को 9 बार अपने घर ,यहां तक कि गांव को भी छोड़कर जाना पड़ा ।

आज भी उनका परिवार गुमनामी की जिंदगी जीने को विवश है। ऐसे वीर क्रांतिकारी के परिवार से आजाद भारत की सरकार आज भी मुंह मोड़े हुए है। इससे अधिक शर्मनाक बात और क्या हो सकती है। यह है देश के लिए अपना सर्वस्व होम करने वाले भारत मां के वीर सपूतों की हकीकत। उन्हें सम्मान की बात तो दीगर है, उनके परिजनों की सुध लेने वाला भी कोई नहीं।

आज हमारा दायित्व है कि हम आजादी की लड़ाई के उन योद्धाओं का स्मरण करें जिन्होंने देश के लिए खुद को बलिदान कर दिया। असलियत में ऐसे वीरों का बलिदान हमारी अमिट धरोहर है जिसे भुलाया नहीं जा सकता। इसके साथ ही धन्य है वह मां जिसने ऐसे वीर सपूत को जन्म दिया। हम सभी ऐसे महावीर की जयंती के अवसर पर उन्हें और उस जननी को अपने श्रद्धा सुमन अर्पित कर स्वयं को गौरवान्वित अनुभव करते हैं। इंकलाब जिंदाबाद। भारत माता की जय। जय हिंद।

Deepak Sharma

इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

Share
Published by
Deepak Sharma

Recent Posts

बलजीत सिंह बेनाम ग़ज़ल Ghazalबलजीत सिंह बेनाम ग़ज़ल Ghazal

बलजीत सिंह बेनाम ग़ज़ल Ghazal

अतुल्य लोकतंत्र के लिए बलजीत सिंह बेनाम जी की कलम से .... बलजीत सिंह बेनाम… Read More

16 hours ago
सनम-अबीगैल पर ड्रग्स लेने का केस दर्ज, फिर पूछताछ करेगी NCBसनम-अबीगैल पर ड्रग्स लेने का केस दर्ज, फिर पूछताछ करेगी NCB

सनम-अबीगैल पर ड्रग्स लेने का केस दर्ज, फिर पूछताछ करेगी NCB

Mumbai/Atulya Loktantra: ड्रग्स केस में टीवी कपल सनम जौहर और अबीगैल की मुश्किलें बढ़ गई… Read More

20 hours ago
उर्मिला मातोंडकर ने किसान आंदोलन का किया समर्थन, ट्वीट कर बोलीं- जागो भारत…उर्मिला मातोंडकर ने किसान आंदोलन का किया समर्थन, ट्वीट कर बोलीं- जागो भारत…

उर्मिला मातोंडकर ने किसान आंदोलन का किया समर्थन, ट्वीट कर बोलीं- जागो भारत…

Mumbai/Atulya Loktantra: उर्मिला मातोंडकर एक बार फिर से अपनी ट्वीट की वजह से सुर्खियों में… Read More

20 hours ago
BMC के खिलाफ कंगना रनौत की याचिका पर आज सुनवाई, अभिनेत्री ने 2 करोड़ रुपए का मांगा मुआवजाBMC के खिलाफ कंगना रनौत की याचिका पर आज सुनवाई, अभिनेत्री ने 2 करोड़ रुपए का मांगा मुआवजा

BMC के खिलाफ कंगना रनौत की याचिका पर आज सुनवाई, अभिनेत्री ने 2 करोड़ रुपए का मांगा मुआवजा

New Delhi/Atulya Loktantra: बीएमसी द्वारा कंगना रनौत के बंगले के एक हिस्से को गिराए जाने… Read More

20 hours ago
बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का आज ऐलान, 12.30 बजे होगी चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंसबिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का आज ऐलान, 12.30 बजे होगी चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस

बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का आज ऐलान, 12.30 बजे होगी चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस

New Delhi/Atulya Loktantra: बिहार चुनाव के मद्देनजर आज चुनाव आयोग की नई दिल्ली में बैठक… Read More

20 hours ago