अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत याचिका पर SC में सुनवाई जारी, महाराष्ट्र सरकार की ओर से कैविएट दायर

0

New Delhi/Atulya Loktantra News : रिपब्लिक टीवी के एडिटर अर्नब ने हाईकोर्ट में जमानत अर्जी ठुकराने के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। इस पर जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदिरा बनर्जी की बेंच सुनवाई जारी है। अधिवक्ता हरीश साल्वे अर्नब का पक्ष सुप्रीम कोर्ट में रख रहे हैं। वहीं, अर्नब की याचिका पर महाराष्ट्र सरकार ने कैविएट दायर कर कहा कि उनका पक्ष सुने बगैर कोई आदेश जारी न किया जाए।

बता दें कि 2018 में इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां को खुदकुशी के लिए उकसाने के मामले में रायगढ़ पुलिस ने अर्नब और दो अन्य लोगों को 4 नवंबर को गिरफ्तार किया था। बाद में अदालत ने इन्हें 18 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। अर्नब फिलहाल तलोजा जेल में बंद हैं।

AdERP School Management Software

अर्नब को लेकर गृहमंत्री से मिले राम कदम
भाजपा विधायक राम कदम ने मंगलवार को अर्नब की गिरफ्तारी को लेकर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख से मुलाकात की। उन्होंने एक पत्र सौंपा जिसमें अर्नब के खिलाफ ‘बदले की भावना’ से कार्रवाई करने वाले पुलिसकर्मियों की उचित जांच करने के आदेश देने का अनुरोध किया है।

पत्र में लिखा, ‘गिरफ्तारी के वक्त अर्नब के साथ बदसलूकी हुई और उनके साथ मारपीट की गई। जिन पुलिसकर्मियों ने उनके साथ मारपीट की, वे बदले की भावना से उनके खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं। अर्नब के साथ हुए दुर्व्यवहार को देखकर जनता नाराज है। इस गलत कार्रवाई से पूरा देश व्यथित है।’

लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों पर होगी कार्रवाई
कोंकण रीजन के पुलिस महानिरीक्षक संजय मोहिते ने मीरा भयंदर वसई विरार कमिश्नर सदानंद दाते को पत्र लिखकर खुदकुशी मामले की जांच में गड़बड़ी करने वाले इंस्पेक्टर सुरेश वराडे पर कार्रवाई की सिफारिश की है। कमिश्नर ने कहा कि सोमवार को पत्र मिलने के बाद वराडे को तलब किया है। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वराडे ने ही अलीबाग पुलिस थाने में खुदकुशी मामले की क्लोजर रिपोर्ट फाइल की थी।

फेक टीआरपी केस में घनश्याम सिंह गिरफ्तार
इस बीच मुंबई टीआरपी में हेरफेर मामले में रिपब्लिक टीवी के डिस्ट्रीब्यूशन हेड घनश्याम सिंह को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया। सिंह रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के सहायक असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट भी हैं। सिंह की गिरफ्तारी के साथ मामले में अब तक 12 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

ऐसे हुआ था टीआरपी घोटाले का खुलासा
टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट(टीआरपी) घोटाले का खुलासा पिछले महीने तब हुआ, जब ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) ने हंसा रिसर्च ग्रुप के जरिए शिकायत दर्ज कराते हुए आरोप लगाया था कि कुछ चैनल टीआरपी आंकड़ों में छेड़छाड़ कर रहे हैं। रेटिंग के आंकड़ों के लिए लगने वाले पीपुल्स मीटर के काम में हंसा बार्क का वेंडर है। बता दें कि बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस मामले में हंसा की याचिका पर शनिवार को महाराष्ट्र सरकार, मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह और दो अन्य पुलिस अधिकारियों से जवाब-तलब किया था। याचिका में पुलिस पर उत्पीड़न का आरोप लगाया गया था।

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here