यह आक्सीजन की कीमत समझने का वक्त है : ज्ञानेन्द्र रावत

1

अतुल्य लोकतंत्र के लिए वरिष्ठ पत्रकार और पर्यावरणविद् ज्ञानेन्द्र सिंह रावत जी की कलम से••

कोरोना महामारी का संकट दिनों दिन सुरसा के मुंह की तरह बढ़ता जा रहा है। लाखों की तादाद में रोजाना इसकी बढो़तरी इसका जीता जागता सबूत है। जाहिर है इस पर काबू पाने के सरकारी दावे पूरी तरह झूठे साबित हुए हैं। कोरोना संक्रमितों की अस्पतालों में बढ़ती तादाद और वहां न बैड हैं, न दवा, न वैक्सीन, न वैंटीलेटर हैं, और यदि डाक्टर हैं तो नर्स नहीं, वार्ड व्याय नहीं, स्टेचर नहीं और तो और वहां मरीज लाने को एम्बुलैंस तक का न होना सरकारी दावों की कलई खोल रहा है। बीते सालों में साल दर साल मेडीकल कालेजों के खोले जाने और वहां की भी यही हालत यह साबित करती है कि सरकार किस तरह देश की जनता को धोखा देती रही है। देश की चिकित्सा व्यवस्था की बदहाली की बात अगले चरण में करूंगा। इस समय सबसे बडा़ सवाल कोरोना संक्रमितों को आक्सीजन मिलने का है जिसकी कमी से हजारों की तादाद में कोरोना पीडि़त मौत के मुंह में जाने को विवश हैं और सरकार, प्रशासन, अधिकारी, विधायक, सांसद, मंत्री और दूसरे जन प्रतिनिधि बेबस नजर आ रहे हैं।
दरअसल आज आक्सीजन की अहमियत सबको मालूम पड़ रही है। जबकि मुंहमांगी कीमत देने पर भी आक्सीजन का सिलेंडर नहीं मिल रहा है। यह सच है कि आक्सीजन की मांग और उपलब्धता में जमीन आसमान का अंतर है। हर जगह आक्सीजन के लिए हाहाकार का अहम कारण यही है। इस बाबत मध्य प्रदेश का मामला सामने आया है। जबकि सच्चाई यह है कि यह पूरे देश की हालत है और जहां कोरोना का प्रकोप भयंकर है, उन राज्यों में स्थिति बेहद गंभीर है।
असलियत तो यह है कि हमने आक्सीजन की कीमत कभी पहचानी ही नहीं। और जहां से हमें मुफ्त में आक्सीजन मिलती रही है और मिलती भी है, उन पेडो़ के अस्तित्व को नकार कर उन्हें हम विकास मार्ग के यज्ञ में समिधा बनाते रहे। यह एक,दस, हजार, लाख की बात नहीं है , करोडो़ पेडो़ं को हर साल वह चाहे पर्यटन के नामपर, आल वैदर रोड के नामपर, एक्सप्रैस वे के नामपर, फोर लेन, आठ लेन की सड़क बनाने या औद्यौगिक विकास के नामपर काटते रहे हैं। आप देश के किसी नगर, महानगर चले जायें, सड़कों पर ट्रक,ट्रैक्टर पर कटे पेडो़ के लट्ठे लदे मिल जायेंगे। यह आम बात है। उस हालत में आक्सीजन हमें कहां मिलेगी। यह विकास के रथ पर सवार सरकारों और देश के भाग्य विधाताओं ने कभी सोचना गवारा नहीं किया कि इससे पर्यावरण और पारिस्थितिकी तंत्र व जैव विविधता पर कितना दुष्प्रभाव पडे़गा। वन्य जीवन प्रभावित होगा सो अलग। आज कोरोना महामारी के काल में हम आक्सीजन के लिए हाहाकार कर रहे हैं लेकिन क्या किसी ने पेड़ काटने पर कभी मुंह खोला। उस समय हम अपनी जाति, संप्रदाय या फिर धर्म के नारों के बीच अपनी कही जाने वाली सरकारों के आगे बौने बने रहे। हां गौरा देवी का विरोध और उससे उपजा चिपको आंदोलन की बात ही निराली है जिसने पेडो़ के अस्तित्व के लिए न केवल संघर्ष किया बल्कि उस समय की सरकारों को इस बाबत नीति बनाने पर विवश भी किया लेकिन उसके बाद फिर बनी वन नीति भी पेडो़ की रक्षा में नाकाम रहीं, वह बात दीगर है कि दावे हरित संपदा की वृद्धि के बहुत किये जाते रहे। दुख है कि आज भी स्थिति में कोई बदलाव नहीं है और यह सिलसिला बदस्तूर जारी है। सरकार दावे भले करती रहे कि हमारी वन संपदा में बढो़तरी हो रही है जबकि हकीकत में उसका दिनोंदिन छय ही हो रहा है। अब भी वक्त है अब भी संभल जाओ, हमारी जीवनदायी पेडो़ रूपी इस संपदा को बचाओ, अन्यथा बहुत देर हो जायेगी और तब पछताने के सिवाय हमारे हाथ में कुछ नहीं होगा। इन हालात में एक दिन ऐसा आयेगा जब पेडो़ का नामोनिशान तक मिट जायेगा और इनका नाम किताबों में ही देखने को मिलेगा।
[17/04, 02:03] ज्ञानेंद्र रावत जी: दरअसल बढ़ती आबादी, शहरीकरण और विकास की अंधी दौड़ ने हरित संपदा के खात्मे में अहम भूमिका निबाही है। आज से तीस पैंतीस साल पहले जब हम अपने घर जाया करते थे तो सड़क के दोनों ओर घने पेड़ और हर भरे खेत दिखाई देते थे। आज वहां यह सपना है और वहां अब कटे पेडो़ के ठूंठ और सड़क किनारे गगन चुम्बी अट्टालिकायें ही दिखाई देती हैं। अब घर के आंगन में पेड़, वह भी नीम के पेड़ का होना और उस पर चिडि़यों का चहचहाना एक सपना हो गया है। हां अपने अपने फ्लैट में बोनसाई सहित कुछ खास किस्म के सुंदर और दिखावटी पौधे लगाकर हम उसकी पूर्ति कर खुश हो लेते हैं। जबकि सच यह है कि यह तो अपने को धोखा देना है। दुनिया के वैज्ञानिक ग्लोबल वार्मिंग के खतरों के प्रति बरसों से चेता रहे हैं लेकिन हकीकत यह है कि हमारे देश में ही नहीं रूस, अफ्रीका और चीन, इंडोनेशिया आदि देशों से भी हरित संपदा का दिनबदिन ह्वास होता जा रहा है। यदि यूएनओ की मानें तो हर साल एक फीसदी की दर से दुनिया में जंगल कट रहे हैं। ग्लोबल वाच के डर्क व्राइंट की मानें तो आने वाले बीस सालों में दुनिया से चालीस फीसदी जंगल साफ हो जायेंगे। इससे ऐसा लगता है कि जिस तेजी से हमारी हरित संपदा यानी जंगल कटते जा रहे हैं, उसी रफ्तार से जीव जंतुओं की हजारों प्रजातियां विलुप्त हो जायेंगीं। विडम्बना यह कि हम यह कभी नहीं सोचते कि कुदरत की इस अनमोल देन को जिस तेजी से खत्म करने पर तुले हैं, उसी रफ्तार से वातावरण में कार्बन डाई आक्साइड बढ़ रही है और मिट्टी के कटाव में भी उसी तेजी से बढो़तरी हो रही है जो बेहद खतरनाक संकेत है। ऐसी हालत में मानव अस्तित्व की रक्षा की उम्मीद बेमानी है।

( लेखक वरिष्ठ पत्रकार एवं पर्यावरणविद हैं।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here