MP: कोरोना पर चल रही मीटिंग में DM ने की अभद्रता, डॉक्टरों ने बंद किया काम

0

Madhya Pradesh/Atulya Loktantra : मध्य प्रदेश में कोरोना से हालात बिगड़ते जा रहे हैं और इस बीच राजगढ़ से परेशान करने वाली खबर आई है. यहां डॉक्टरों को काम छोड़कर हड़ताल पर जाना पड़ा है. आरोप है कि जिलाधिकारी ने डॉक्टरों से अभद्रता की, जिसके बाद मेडिकल स्टाफ के लोगों ने काम बंद करने का कदम उठाया.

दरअसल, कोरोना संक्रमण को लेकर राजगढ़ डीएम नीरज कुमार सिंह ने एक बैठक बुलाई थी. इस बैठक में डॉक्टर मौजूद थे. आरोप है कि इस दौरान नीरज कुमार सिंह और डॉक्टरों के बीच कहासुनी हो गई. डॉक्टरों का आरोप है कि कलेक्टर ने उनके साथ अभद्रता की.

क्या है पूरा मामला
डॉक्टरों का कहना है कि डीएम नीरज सिंह ने कोरोना समीक्षा बैठक सिविल सर्जन ऑफिस में रखी थी. बैठक में कलेक्टर नीरज सिंह ने डॉक्टरों के साथ बदसलूकी की. आरोप है कि कलेक्टर ने डॉक्टरों के खिलाफ ‘तम्हें डिग्री किसने दी’, ‘तुम्हें रेफर करने का अधिकार नहीं है’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया. इस दौरान दोनों पक्षों में कहासुनी हुई. आरोप ये भी है कि डीएम ने डॉक्टरों के लिये निकम्मा और मूर्ख जैसे शब्दों का भी इस्तेमाल किया.

जिला अस्पताल के डॉ सुधीर कलावत ने बताया कि कलेक्टर साहब पूछ रहे थे आपने कोरोना के पेशेंट को भोपाल रेफर क्यों किया. इस पर हमने बताया कि पेशेंट को ऑक्सीजन लगाने के बाद भी 80 परसेंट के नीचे जा रहा था, इसलिये उसे रेफर करना पड़ा.

प्रमुख सचिव तक पहुंची शिकायत
बताया जा रहा है कि इस घटना के बाद सभी डॉक्टर बैठक छोड़कर चले गये और काम बंद करने की बात कही. इतना ही नहीं डॉक्टरों ने लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण के प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर शिकायत भी की. पत्र में कहा गया है कि डीएम द्वारा अभद्र व्यवहार से सभी चिकित्सक साथियों को मानसिक ठेस पहुंची है, साथ ही सभी चिकित्सकों का मनोबल टूट गया है. इसके चलते हमने कोई काम नहीं करने का फैसला लिया है. डॉक्टरों की तरफ से मांग की गई कि जब तक कलेक्टर को हटाया नहीं जाता तब तक काम पर नहीं लौटेंगे.

इसके बाद डॉक्टरों को मनाने की कोशिश की जाती रही और देर रात उन्होंने काम पर लौटने का फैसला कर लिया. फिलहाल, हालात सामान्य हैं और डॉक्टर अपनी ड्यूटी कर रहे हैं.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें