पत्रकारों की समस्या पर गम्भीरता से विचार करेंगे -लोकसभा अध्यक्ष

0
नई दिल्ली/अतुल्यलोकतंत्र :पत्रकार संघ (डीजेए) की नवनिर्वाचित कार्यकारिणी के सदस्यों और नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्टस (इंडिया) के वरिष्ठ पदाधिकारियों का एक प्रतिनिधिमंडल लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से उनके निवास पर मिला। प्रतिनिधिमंडल ने बिड़ला को एक ज्ञापन भी दिया। ज्ञापन में पत्रकारों की समस्याओं पर प्राथमिकता के आधार पर विचार करने का अनुरोध किया गया है। लोकसभा अध्यक्ष ने आश्वासन दिया कि वह पत्रकारों की मांगों पर गंभीरतापूर्वक विचार करेंगे। बिड़ला ने कहा कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए देश में स्वतंत्र और सशक्त मीडिया का होना जरूरी है।
प्रतिनिधिमंडल ने उन्हें अवगत कराया कि आज 60 साल पार कर चुके पत्रकारों के सामने सामाजिक, आर्थिक सुरक्षा, पर्याप्त पेंशन का अभाव, चिकित्सा सुविधा कमजोर होने जैसे कई मुद्दे एक समस्या की तरह मुंह बाए खड़े हैं। प्रतिनिधिमंडल ने अपनी मांगों में पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने, अंशकालीन पत्रकारों से जुड़ी समस्याओं के समाधान , तीसरे प्रेस कमीशन के गठन और प्रेस काउंसिल ऑफ़ इंडिया को मीडिया काउंसिल ऑफ इंडिया में तब्दील करने जैसे अहम मुद्दे उठाए।
डीजेए अध्यक्ष मनोहर सिंह ने कहा कि राज्य स्तर पर पत्रकारों के लिए एक हेल्पलाइन बननी चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर उसका प्रयोग हो सके। डीजेए महासचिव अमलेश राजू ने कहा कि प्रेस की स्वतंत्रता के साथ मीडियाकर्मियों की वित्तीय स्थिति मजबूत करने के लिए सभी दलों को व्यापक स्तर पर सोच विकसित करने की जरूरत है। वहीं, दिल्ली पत्रकार संघ के उपाध्यक्ष नेत्रपाल शर्मा ने कहा कि देश में आए रोज़ पत्रकारों पर हो रहे हमलों ने लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के मन में असुरक्षा की भावना भर दी है। केंद्र सरकार को पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की दिशा में तुरन्त कार्य शुरू करना चाहिए।
प्रतिनिधिमंडल में एनयूजे (आई) के उपाध्यक्ष श्री मनोज मिश्र, कोषाध्यक्ष श्री हेमंत विश्नोई, कार्यकारिणी के सदस्य डॉ. रविंद्र अग्रवाल, एनयूजे स्कूल ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन के अध्यक्ष श्री विजय क्रांति, सुश्री सर्जना शर्मा के साथ सुश्री निवेदिता मदाने,सुश्री प्रेरणा कटियार, श्रीनाथ मेहरा, संतोष सूर्यवंशी, शिशिर चौरसिया, जगदंबा सिंह, महेश और आशुतोष कुमार सिंह सहित अन्य पत्रकार भी शामिल थे।    लोकसभा अध्यक्ष ने प्रतिनधिमण्डल के सभी सदस्यों का हाथ मिलाकर अभिवादन किया और संबंधित समस्याओं तथा मांगों पर गंभीरता से विचार करने का आश्वासन दिया।

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here