उपायुक्त ने किया मानेसर के कन्या स्कूल का दौरा

63

Gurugram/Atulyloktantra: गुरुग्राम के उपायुक्त अमित खत्री ने आज राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मानेसर का दौरा किया और वहां पर सुरक्षा प्रबंधों का जायजा लेने के साथ अन्य व्यवस्थाओं को देखा।
इस दौरान मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि स्कूल का अच्छा साफ-सुथरा भवन बना हुआ है तथा स्कूल मैनेजमेंट कमिटी के सदस्य, सरपंच व अन्य ग्रामीण, पुलिस तथा शिक्षा विभाग के अधिकारीगण सभी लड़कियों की सुरक्षा के प्रति संतुष्ट है, जो थोड़ी बहुत कमी सामने लाई गई है उसे दूर किया जाएगा। स्कूल में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे तथा बाउंड्री पर कांटेदार तार लगाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को शिक्षा उपलब्ध करवाने के लिए जिन मूलभूत सुविधाओं की आवश्यकता होती है, वे सब इस विद्यालय में है। विद्यालय परिसर साफ सुथरा दिखाई दे रहा है और जो सरकार का प्रयास होता है फोल्डेबल शिक्षा देने का, उसके सभी प्रबंध है यहां पर है। स्कूल का बाकायदा एक गेट है तथा बाउंड्री वॉल है। उन्होंने कहा कि स्कूल की प्राचार्य ने उन्हें बताया है कि यहां की छात्राएं मेधावी हैं और स्कूल का रिजल्ट भी अच्छा आया है। स्कूल में पढ़ाई का अच्छा माहौल है।
दौरे के दौरान उपायुक्त ने स्कूल मैनेजमेंट कमेटी के सदस्यों तथा ग्रामीणों और छात्राओं से भी बातचीत की। एक कक्षा में जब उपायुक्त गए तो वहां पर इतिहास का पाठ पढ़ाया जा रहा था तो उन्होंने उनकी पुस्तक से कुछ इतिहास के बारे में सवाल भी पूछे जिसका छात्राओं ने पूरे आत्मविश्वास के साथ जवाब दिया। उपायुक्त ने जिला शिक्षा अधिकारी श्रीमती प्रेमलता यादव तथा स्कूल की प्राचार्य और एसीपी सत्यपाल यादव के साथ पूरे स्कूल परिसर का निरीक्षण किया। मिड डे मील को चेक किया। इस मौके पर खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी जगराम मान तथा मानेसर के तहसीलदार प्रदीप भी उपस्थित थे।
गांव की एक महिला राजबाला, जो एसएमसी कमेटी की सदस्य भी है जिसकी एक बेटी 11वीं कक्षा में इसी विद्यालय में पढ़ती है, उसका कहना था कि स्कूल में शिक्षा का अच्छा माहौल है और छात्राएं सुरक्षित है। अब से पहले कभी लड़कियों की सुरक्षा को लेकर उनके सामने कोई बात नहीं आई। उनकी एक बेटी पहले भी स्कूल में पढ़ कर जा चुकी है। स्कूल में दीवारों पर मानचित्र पर काला पेंट पोतने के बारे में जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि स्कूल में चौकीदार नहीं है इसलिए स्कूल समय के बाद या रात के समय किसी ने शरारत की होगी, यह घटना लड़कियों के सामने दिन के समय नहीं हुई इसलिए उनमें डर की कोई बात नहीं है। इसी प्रकार के विचार गांव की ही सीमा नामक महिला ने व्यक्त किए, जिसकी बेटी स्कूल में दसवीं कक्षा की छात्रा है। सीमा भी एसएमसी कमेटी की सदस्य हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here