बदलती जीवन शैली से सबसे ज्यादा युवा प्रभावित : डा. रोहित गुप्ता

फरीदाबाद। वल्र्ड हेल्थ डे पर नीलम चौक स्थित फोर्टिस अस्पताल की न्यूरोलॉजी ओपीडी में जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग डायरेक्टर डॉ. रोहित गुप्ता ने कहा कि भागदौड़ भरी जिंदगी और बदलती जीवन शैली ने सबसे अधिक युवा पीढ़ी को प्रभावित किया है। जीवन में शार्ट कट से बहुत कुछ हासिल कर लेने की चाह ने लोगों का सुकून छीन लिया है। ऐसे में उनके पास न ठीक से खाने का वक्त होता है और न ही सोने का समय। फास्ट फूड और नशीली चीजें युवाओं में हृदय रोग, डायबिटीज, कैंसर और हाइपरटेंशन जैसी बीमारियों की गिरफ्त में आ रहे हैं। ये रोग अब 30 साल की उम्र में ही होने लगे हैं। जरा सी सावधानी और जीवन शैली में बदलाव कर कुछ हद तक इन्हें रोका जा सकता है। डॉक्टर रोहित ने लोगों को जागरुक करते हुए बताया कि रोजाना संतुलित भोजन, नियमित व्यायाम, पूरी नींद व तनाव से दूर रहकर स्वस्थ जीवन जी सकता है। उन्होंने बताया कि धूम्रपान से दूरी बनाकर भी दिल, दिमाग व कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों से बच सकते है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ दिमाग के लिए देर रात तक वॉट्सएप व फेसबुक पर चैटिंग करने से बीमारियों का ग्राफ बढ़ रहा है। डॉक्टर रोहित गुप्ता ने बताया कि विभन्नि परिस्थितियों से लोगों को उबारने के लिए हर साल वल्र्ड हेल्थ डे का स्थापना दिवस सात अप्रैल को मनाया जाता है। इसका मकसद लोगों को स्वस्थ जीवन प्रदान करने के लिए जरूरी परामर्श के साथ जागरूक भी करना है। हर साल अलग-अलग थीम पर मनाए जाने वाले इस दिवस की इस बार की थीम है ‘बिल्डिंग अ फेयरर, हेल्दियर वल्र्ड’ यानी एक निष्पक्ष, स्वस्थ दुनिया का निर्माण। शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के साथ ही मानसिक रूप से भी स्वस्थ होना बहुत जरूरी है। इसके लिए जरूरी है कि सही पोषण के साथ ध्यान, योग और प्राणायाम को भी जीवन में शामिल किया जाए। शारीरिक श्रम से मुंह मोडऩे का ही नतीजा है कि शरीर बीमारियों का घर बन रहा है। गंभीर बीमारियों से बचने के लिए जरूरी है कि हर रोज कम से कम 45 मिनट तक कड़ी मेहनत व शारीरिक श्रम किया जाए। इससे दिमाग रोग, हृदय रोग और डायबिटीज से शरीर को सुरक्षित बना सकते हैं। इन बातों का रखें ध्यान – संतुलित आहार लें, फल व सब्जियों की मात्रा बढ़ाएं। – नियमित व्यायाम से शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखें। – तनाव मुक्त रहें, कोई दिक्कत हो तो परिवार से शेयर करें। – प्रतिदिन छह से सात घंटे की नींद व आराम जरूरी। – वजन को संतुलित रखें। – दिक्कत महसूस हो तो प्रशिक्षित चिकित्सक से ही संपर्क करे।

Leave a Comment