जीवन के लिए खेल अति महत्वपूर्ण : भड़ाना

Faridabad/Alive News : खेल प्रतियोगियों से खेल भावना का प्रदर्शन करने और विरोधियों एवं अधिकारियों को सम्मान देने व हारने पर विजेता को बधाई देने जैसे व्यवहार से परिचित कराते हैं। इससे आपसी भाईचारा एवं सौहार्द बढ़ता है, वहीं व्यक्ति का शारीरिक विकास भी होता है। गुरू भड़ाना ने गांव पाली में आयोजित क्रिकेट प्रतियोगिता के उद्घाटन अवसर पर कहे। इससे पूर्व उन्होंने सभी खिलाडिय़ों से हाथ मिलाकर उनकी हौसलाफजाई की और कहा कि खेल को खेले भावना से खेलें।

उन्होंने कहा कि यह अहम नहीं है कि तुम हारे या जीते, अहम यह है कि तुमने खेल कैसा खेला। इसलिए अपने खेल को बेहतरीन बनाने का हमेशा प्रयास करें और अपनी स्पोर्टमैनशिप को बनाए रखें। गुरू भड़ाना आज के आधुनिक दौर में शारीरिक खेलों की ओर युवाओं के घटते रुझान पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि आजकल आउटडोर गेम्स की बजाय बच्चे इनडोर गेम्स अधिक खेलते हैं। जिसके चलते बच्चों का शारीरिक विकास नहीं हो पाता और उनको कम उम्र में ही आंखों की कमजोरी एवं शारीरिक कमजोरी जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

इसलिए उन्होंने बच्चों से इनडोर गेम्स जैसे कम्पयूटर, लैपटॉप, मोबाइल आदि की बजाय आउटडोर गेम्स पर ध्यान देने को कहा, ताकि वो शारीरिक रूप से मजबूत हो सकें। इस टूर्नामेंट में पलवल से आए गुरमीत क्लब, पाली का चौतरा बाबा क्लब, फरीदाबाद का खोपड़ी क्लब, दिल्ली से आया पोडम क्लब एवं गुडग़ांव से तिवारी क्लब ने हिस्सा लिया।

टूर्नामेंट का आयोजन गुरू भड़ाना, लोकेश भड़ाना, दीपक भड़ाना, अनुज भड़ाना, कुल्ली भड़ाना, विपिन भड़ाना, सन्नी भड़ाना एवं कपिल भड़ाना आदि ने किया। जबकि इस अवसर पर मुख्य रूप से पाला, चन्दी, रघुबर प्रधान, श्यामबीर मैम्बर, जसवंत जेएस, बीरराम, दीपक आहूजा, तेजवंत सिंह, बिट्टू सिंह, बिरजी एवं वेद पंडित आदि ने शिरकत की।

Leave a Comment