कम्युनिटी रेडियो की कार्यप्रणाली से रूबरू हुए जनसंचार एवम् पत्रकारिता के विद्यार्थी

Faridabad: डी.ए.वी शताब्दी महाविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के छात्रों ने एन.जी.एफ. इंजीनियरिंग कॉलेज, पलवल के सामुदायिक रेडियो स्टेशन – रेडियो एन.जी.एफ. पलवल, दिल से दिल तक, 90.4 का भ्रमण व अवलोकन किया। इस भ्रमण का उद्देश्य पत्रकारिता विभाग के छात्रों को एक रेडियो स्टेशन की कार्यप्रणाली व तकनीकी से अवगत कराना रहा। डी.ए.वी. शताब्दी महाविद्यालय के लगभग 40 छात्रों ने एन.जी.एफ. इंजीनियरिंग कॉलेज, पलवल का दौरा किया। छात्रों ने कॉलेज परिसर स्थित सामुदायिक रेडियो स्टेशन का अवलोकन किया। एन.जी.एफ. रेडियो के प्रोग्राम संचालक जितेश ने छात्रों की अगवानी की |  वे छात्रों को रेडियो प्रसारण रूम में लेकर गए | उन्होंने छात्रों को एक सामुदायिक रेडियो क्या होता है और किस तरह से काम करता है, के बारे में बताया।
उन्होंने बताया कि हमारा रेडियो स्टेशन 90.4 FM फ्रिक्वेंसी पर ट्यूनिंग होता है व 25 से 30 किलोमीटर के क्षेत्र में रहने वाले लोगों को कवर करता है। उन्होंने रिकॉर्डिड, लाइव व फोन इन – रेडियो प्रोग्राम के कॉन्सेप्ट को छात्रों को बारीकी से बताया। उन्होंने सेल्फी विद डॉटर कार्यक्रम के बारे में बताते हुए कहा कि इस प्रोग्राम का आगाज़ करने वाले जींद के गांव के सरपंच सुनील जागलान को यहाँ बुलाना मुश्किल था इसलिए फोन-इन प्रोग्राम हम लोगों ने उनके साथ किया।
एन.जी.एफ. कॉलेज के रेडियो तकनीशियन आलोक ने छात्रों को प्रोग्राम को कैसे रिकॉर्ड, एडिट व ब्रॉडकास्ट किया जाता है, के बारे में बताया। उन्होंने रेडियो के क्षेत्र में अलग-अलग संभावित जॉब्स के लिए अपने आप को कैसे तैयार करना है, के बारे में बताया। उन्होंने छात्रों को बताया की आप हमारे यहाँ रेडियो में इन्टर्नशिप किस तरीके से कर सकते है। वॉइस ऑवर आर्टिस्ट रिकॉर्डिंग रूम में मौजूद मैडम योगिता ने छात्रों को वॉइस ऑवर आर्टिस्ट की कार्यविधि को समझाया। उन्होंने रेडियो का इतिहास भी छात्रों के समक्ष रखा।
जनसंचार एवं पत्रकारिता विभागाध्यक्ष रचना कसाना इस तरह की गतिविधियों का आयोजन समय समय पर करती रहती है और  ये  भ्रमण भी रचना कसाना एवं  विरेन्द्र सिंह कि देखरेख में ही आयोजित हुआ था | सभी छात्र इस सामुदायिक रेडियो केंद्र के भ्रमण से काफी उत्साहित व् लाभान्वित नजर आए।

Leave a Comment