आइडियाथॉन चैलेंज-2021 में युवाओं की स्टार्ट-अप परियोजनाओं ने किया प्रभावित

– जे.सी. बोस विश्वविद्यालय में युवा आइडियाथॉन चैलेंज-2021 संपन्न हुआ
– विद्यार्थियों ने राष्ट्रीय सुरक्षा से लेकर बुजुर्गों के लिए स्वास्थ्य समाधान तथा स्वच्छ ऊर्जा की परियोजनाएं प्रस्तुत

फरीदाबाद, 18 सितम्बर – जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद द्वारा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 71वें जन्मदिवस के उपलक्ष्य में मनाये गये ‘युवा प्रेरणा दिवस’ पर आयोजित युवा आइडियाथॉन चैलेंज-2021 में प्रस्तुत प्रौद्योगिकी आधारित युवाओं की अभिनव परियोजनाओं ने सभी को प्रभावित किया। विद्यार्थियों ने राष्ट्रीय सुरक्षा से लेकर बुजुर्गों के लिए स्वास्थ्य समाधान देने तथा स्वच्छ ऊर्जा उत्पन्न करने जैसे समाधान को अपने स्टार्ट-अप आइडिया के रूप में प्रस्तुत किया।
इस अवसर पर हरियाणा तकनीकी एवं उच्चतर शिक्षा के प्रधान सचिव श्री आनंद मोहन शरण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे तथा उन्होंने विद्यार्थियों के अभिनव आइडिया की खुले दिल से सराहना की। कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने की।
इस मौके पर प्रधान सचिव श्री आनंद मोहन शरण ने विश्वविद्यालय द्वारा विकसित जे.सी. बोस टेक्नोलॉजी बिजनेस इन्क्यूबेशन सेंटर का उद्घाटन भी किया। इस इन्क्यूबेशन सेंटर की शुरूआत विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों, शिक्षकों और पूर्व छात्रों के उद्यमशीलता के प्रयासों को सहयोग देने के उद्देश्य से की गई है। इस अवसर पर प्रधान सचिव ने विश्वविद्यालय में डिजिटल स्टूडियो एवं इंडस्ट्री स्किल सेंटर सहित विभिन्न सुविधाओं का जायजा भी लिया और मीडिया के विद्यार्थियों को साक्षात्कार भी दिया। श्री आनंद मोहन शरण ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में विद्यार्थियों के कौशल विकास एवं उनके सर्वांगीण विकास को लेकर विभिन्न प्रावधान किये गये है। इस नीति का प्रभावी क्रियान्वयन राज्य सरकार के फोकस का प्रमुख क्षेत्र है और इसके क्रियान्वयन को सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी राज्य के तकनीकी एवं उच्चतर शिक्षण संस्थानों पर है।
युवा आइडियाथॉन चैलेंज-2021 में पेडलिंग के माध्यम से स्वच्छ ऊर्जा उत्पन्न करने की फास्ट्रीसिटी प्रोजेक्ट आइडिया के लिए रुचि गहलावत को विजेता घोषित किया गया। इसी तरह बुजुर्ग लोगों के लिए स्वास्थ्य सहायता प्रोजेक्ट आइडिया के लिए याना सिंघल को प्रथम रनर-अप और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एआई बेस्ड रेडिकलाइजेशन मॉनिटरिंग सिस्टम प्रोजेक्ट आइडिया के लिए निकित मोंगा को दूसरा रनर-अप घोषित किया गया।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधान सचिव ने कहा कि मेक-इन-इंडिया, स्टार्ट-अप इंडिया, स्किल इंडिया जैसे कार्यक्रम प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सोच का परिणाम है और इन सभी कार्यक्रमों का मुख्य बिन्दू हमारे युवा ही है। उनके जन्म दिवस पर विश्वविद्यालय द्वारा ‘युवा प्रेरणा दिवस’ का आयोजन एक सार्थक पहल है। उन्होंने कहा कि युवाओं की अभिनव सोच को स्टार्ट-अप के रूप में प्रोत्साहन देने के लिए टेक्नोलॉजी बिजनेस इन्क्यूबेशन सेंटर की स्थापना विश्वविद्यालय का सराहनीय प्रयास है तथा यह विद्यार्थियों के लिए एक बेहतरीन सुविधा है, जिसकी आज प्रदेश के प्रत्येक विश्वविद्यालय को आवश्यकता है।
उन्होंने कहा कि जे.सी. विश्वविद्यालय हरियाणा के प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों में पहचाना जाता है। वर्ष 1969 को इंडो-जर्मन परियोजना के अंतर्गत इंजीनियरिंग संस्थान के शुरू हुए इस संस्थान का फरीदाबाद क्षेत्र के औद्योगिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है तथा इसके पूर्व छात्रों का देश की आर्थिक एवं सामाजिक प्रगति साथ-साथ विश्वविद्यालय के विकास में अहम योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल भी शिक्षण संस्थानों में पूर्व छात्रों से जुड़ाव को लेकर विशेष बल देते रहे है, जोकि इस विश्वविद्यालय में देखने को मिलती है।
इस अवसर पर संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन को लेकर सजक है। विश्वविद्यालय में इंक्यूबेशन सेंटर एवं कौशल विकास केन्द्रों की स्थापना शिक्षा नीति को लेकर विश्वविद्यालय की योजना का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय गुणवत्ता मानदंडों में सुधार की दिशा में भी काम कर रहा है। विश्वविद्यालय ने एनआईआरएफ रैंकिंग, 2021 में इंजीनियरिंग, प्रबंधन एवं विश्वविद्यालय श्रेणी में अपनी उपस्थित दर्ज करवाई है तथा नैक मान्यता के अगले चरण में विश्वविद्यालय बेहतर प्रदर्शन की अपेक्षा रखता है। कार्यक्रम के अंत में कुलसचिव डाॅ. एस.के. गर्ग ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
इससे पहले डीन प्लेसमेंट, एलुमनाई व कारपोरेट अफेयर प्रो. विक्रम सिंह ने अपने संबोधन में ‘युवा प्रेरणा दिवस’ कार्यक्रम की परिकल्पना एवं युवा आइडियाथॉन चैलेंज-2021 को लेकर जानकारी दी। उन्होंने बताया कि युवा आइडियाथॉन चैलेंज में लगभग 50 विद्यार्थियों ने प्रौद्योगिकी पर आधारित अपने स्टार्ट-अप आइडिया प्रस्तुत किये, जिसमें श्रेष्ठ पांच आइडिया का चयन फाइनल राउंड के लिए किया गया है। प्रतियोगिता के अंतिम चरण में श्रेष्ठ तीन प्रतिभागियों का चयन किया गया। आइडियाथॉन प्रतियोगिता के विजेताओं को प्रथम स्थान के लिए 10,000 रुपये, दूसरे स्थान के लिए 5000 रुपये तथा तीसरे स्थान के लिए 3000 रुपये का नकद पुरस्कार दिया गया है। इसके अलावा, विजेताओं को विश्वविद्यालय के टेक्नोलॉजी बिजनेस इनक्यूबेशन सेंटर में अपने आइडिया को इंक्यूबेट करने तथा उद्यम के रूप में विकसित करने के लिए परामर्श एवं सहयोग सेवाएं भी प्रदान की जायेगी।

Leave a Comment