मुख्यमंत्री की बेहतर खेल नीति से खिलाडिय़ों को मिल रहा प्रोत्साहन : यशपाल रावत

वरिष्ठ समाजसेवी ने दंगल प्रतियोगिता मेें पहुंचकर की पहलवानों हौंसला अफजाई
अजय गुर्जर लाकुवास ने जीती 51 हजार रूपए की कुश्ती
फरीदाबाद। पृथला के विधायक नयनपाल रावत के बड़े भाई समाजसेवी यशपाल रावत ने कहा है कि कुश्ती खेल भारतीय संस्कृति से जुड़ा प्राचीन खेल है और आज प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की बेहतर खेल नीति के तहत इस खेल से जुड़े खिलाड़ी देश-विदेश में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे है। उन्होंने कहा कि हाल ही में बर्मिघम में सम्पन्न हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में हरियाणा खिलाडिय़ों ने दर्जनों मैडल जीतकर यह साबित कर दिया कि प्रदेश सरकार खिलाडिय़ों को प्रोत्साहन दे रही है, जिसके चलते वह प्रदेश व देश का नाम रोशन कर रहे है। श्री रावत गांव मुजेड़ी में बब्बै पहलवान द्वारा आयोजित दंगल प्रतियोगिता में बतौर मुख्यातिथि उपस्थितजनों को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर बब्बै पहलवान व आयोजन समिति के सदस्यों ने फूल मालाओं से मुख्यातिथि यशपाल रावत का स्वागत किया। श्री रावत ने प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी पहलवानों से हाथ मिलाकर उनका परिचय लिया और कहा कि वह खेल को खेल भावना से खेले। हार-जीत को दूर रखते हुए वह भाईचारे की भावना को बढ़ावा दे। उन्होंने कहा कि प्रतियोगिता में जो खिलाड़ी आज हार गए है, उन्हें अपना मनोबल कम करने की जरूरत नहीं, हर हार में एक जीत छिपी होती है और हार के बाद ही जीत का रास्ता प्रशस्त होता है। प्रतियोगिता में 51 हजार की कुश्ती अजय गुर्जर लाकुवास और गौरव पहवान के बीच हुई, जिसमें अजय गुर्जर ने जीत हासिल की वहीं 21 हजार की कुश्ती यूपी के कल्वा नागर और फतेहपुर डींग के मोहित पहलवान के बीच बराबरी पर छूटी। वहीं 11 हजार की सभी कुश्तियां बराबरी पर छूटी। दंगल की शुरूआत बब्बै पहलवान अखाड़े से शिव पहलवान ने जीत के साथ की। यशपाल रावत ने विजेता खिलाडिय़ों को पुरस्कृत किया और पराजित खिलाडिय़ों का मनोबल बढ़ाया। इस अवसर पर चमन कपासिया, राजेंद्र सिंह, हरिचंद सरपंच, मास्अर कर्मबीर, सुखबीर नागर, तेजपाल सरपंच नवादा, नवीन पंडित बड़ौली सहित अनेकों गणमान्य लोग मौजूद थे।

Leave a Comment