सीवरेज के गन्दे पानी की निकासी की मांग को लेकर समाजसेवी अमित मिगलानी ने शुरू की भूख हड़ताल

फरीदाबाद,23-11-2021, पिछले कई वर्षो से ओल्ड फरीदाबाद रेलवे स्टेशन के सामने जमा सीवरेज के गन्दे पानी की निकासी की मांग को लेकर आज समाजसेवी अमित मिगलानी ने ओल्ड फरीदबाद रेलवे स्टेशन के बाहर नगर निगम प्रशासन के खिलाफ भूख हड़ताल शुरू की। इस मौके पर उनके साथ काफी संख्या में स्थानीय लोग भी मौजूद थे। इस अवसर पर लोगों ने नगर निगम प्रशासन को खूब खरी खोटी सुनाकर अपना आक्रोश प्रकट किया। इस मौके पर अमित मिगलानी ने कहा कि पिछले कई वर्षो से यहां के निवासियों व दुकानदारों को नारकीय जीवन जीने पर मजबूर होना पड़ रहा है। दूर दूर तक सडक़ पर सीवरेज का गन्दा पानी भरा पड़ा है जिसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। उन्होनें कहा कि इस सीवरेज के पानी में गिरकर कई लोग चोटिल हो चुके है। अभी एक दिन पहले इस गन्दे पानी में स्कूली बच्चों से भरा तिपहिया पलट गया था। इसके अलावा इस पानी में कई जानलेवा मच्छर भी पनप रहे है जिससे कई खतरनाक बिमारियां होने का अंदेशा उत्पन्न हो गया है। अमित मिगलानी ने कहा कि एक तरफ तो निगमायुक्त इस शहर को इन्दौर बनाने का सपना लोगों को दिखा रहे है लेकिन हकीकत सबके सामने है। अमित मिगलानी ने कहा कि नगर निगम अधिकारी जब पानी सिर से ऊपर हो जाता है तब अपने कर्मचारियों को भेजते है और वो भी जुगाड़ लगाकर इस गन्दे पानी को निकालते है लेकिन 2-3 दिन बाद फिर यहां गन्दा पानी भर जाता है। अमित मिगलानी ने कहा कि उन्होनें निगम अधिकारियों से कई बार आग्रह किया कि इस समस्या का स्थायी हल निकाला जाए ताकि लोगों को इस तरह बार बार परेशान ना होना पड़े लेकिन अधिकारियों के सिर पर जूं तक नही रेगंती नतीजा लोगों को आए दिन इस समस्या से दो चार होना पड़ता है। अमित मिगलानी ने कहा कि जब तक इस समस्या को जड़ से खत्म नही किया जाता तब तक वे अन्न व जल नहीं ग्रहण करेगें। मौके पर एनआईटी थाना प्रभारी फूल कुमार पहुंचे और उन्होनें लोगों को समझाया लेकिन लोग नहीं माने और नगर निगम के किसी अधिकारी को बुलाने पर अड़े रहे।  थाना प्रभारी के बलावे पर निगम का एसडीओ मौके पर आया लेकिन लोग उसके आश्वासन से संतुष्ट नहीं हुए और ऐलान किया कि समस्या की हल होने पर ही वे धरना समाप्त करेगें। इस मौके पर मयंक शर्मा,लोकेश शर्मा,अशोक कुमार,सुनील शर्मा,संजय लाला,महेश कुमार व सोनिया कथूरिया सहित सैक्ड़ो मौग मौजूद थे।

Leave a Comment