कोविशील्ड के टीके में 12 से 16 हफ्ते व कोवैक्सीन को चार हफ्ते के अंतर पर ही लगवाएं दूसरी डोज : डॉ रणदीप पुनिया –

वैक्सीन पूरी तरह से प्रभावी , सरकार के नियमों का जनता करें पालन कोरोना को हराने में करें सहयोग
फरीदाबाद। सीएमओ रणदीप पुनिया ने बताया कि सरकार ने कोविड टीकाकरण कार्यक्रम में कुछ नए बदलाव हुए हैं जिन्हें आम जनता के लिए जानना जरुरी हैं, कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम को शुरू हुए चार माह से ज्यादा बीत चुके हैं और इन चार महीनों में टीकाकरण के दिशा निर्देशों में कुछ बदलाव भी आया है। उन्होंने बताया कि सबसे बड़ा बदलाव कोविशील्ड के टीके के सम्बन्ध में है जिसमे अब पहली और दूसरी डोज के बीच 12 से 16 हफ्ते, तीन से चार महीने, का अन्तराल होगा जो कि पहले 6 से 8 हफ्ते था। डॉ0 पुनिया ने आम जनता से अपील की कि जिन लोगों को कोविशील्ड की पहली डोज लग चुकी है अब वो दूसरी डोज लेने के लिए केवल 12 से 16 हफ्ते के दौरान ही आयें भले ही उन्हें पहले 6 हफ्ते बाद आने के लिए कहा गया हो या उन्हें ऐसा 6 हफ्ते वाला एसएमएस पहले मिला हो, कोविड की वेबसाइट में अब 12 हफ्ते से पहले किसी को भी दूसरी डोज का टीका लगाने का प्रावधान नहीं है, तो ऐसे में लोग खुद भी परेशान ना हों और ना ही बेवजह टीकाकरण केंद्र जायें। उन्होंने कहा कि कभी कभार कुछ लोग टीकाकरण कर्मियोंं पर नाराजगी जाहिर करते है और उन्हें दूसरी डोज का टीका 6 हफ्ते में ही लगाने के लिए जिद करते हैं जो कि सही नहीं है। टीकाकरण कर्मचारी सिर्फ और सिर्फ सरकार के नए दिशा निर्देशों के अनुसार ही अपना काम ईमानदारी से कर रहे है और आम जनता को भी अपना पूरा सहयोग उन्हें देना चाहिए। डॉ0 पुनिया ने कहा कि लोग इस बात का ध्यान रखें कि कोवेक्सिन कंपनी के टीके में पहली और दूसरी डोज का अंतर पहले की तरह से ही 4 हफ्ते का है और उसमे कोई बदलाव नहीं हुआ है। उन्होंने कहा केंद्र सरकार के नए दिशा निर्देशों में अब स्तनपान करवाने वाली माताएं भी अपना कोविड टीकाकरण करवा सकती हैं । उन्होंने यह भी बताया कि कोविड का टीका लगवाने वाले व्यक्ति या फिर कोविड पॉजिटिव आ चुके वो मरीज जो अब ठीक हो चुके है और उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। ये दोनों श्रेणी के लोग 14 दिनों के पश्चात रक्तदान कर सकते है। उन्होंने आम जनता से अपील कि टीकाकरण सुरक्षित और प्रभावशाली है और कोविड महामारी को रोकने के लिए एक अन्यंत अहम साधन है। लोगों को टीके के बारे में किसी भी किस्म की अफवाह को नहीं मानना चाहिए और टीका लगवाने के लिए आगे आना चाहिए।

Leave a Comment