पूरे शहर में लागू होगा स्काडा सिस्टम, समान रूप से होगा पानी का वितरण; आधुनिक तरीके से होगी मॉनिटरिंग

3

आने वाले दिनों में पूरे शहर में पानी का समान वितरण होगा। कोई भी पार्षद अथवा अन्य जनप्रतिनिधि पानी के बंटवारे को लेकर मनमानी नहीं कर सकेगा। क्योंकि फरीदाबाद स्मार्ट सिटी लिमिटेड पूरे शहर में स्काडा सिस्टम (सुपरवाइजरी कंट्रोल एंड डाटा एक्विजिशन) लागू करने जा रही है। सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की बैठक में कई प्रोजेक्ट को मंजूरी मिली।

खास बात यह है कि स्काडा सिस्टम लागू होने से एक निर्धारित स्थान से पूरी पानी सप्लाई की मॉनिटरिंग आधुनिक तरीके से की जा सकेगी। यदि कहीं पानी की बर्बादी भी हो रही है तो उसकी पहचान कर रोकने में मदद मिलेगी। इसके अलावा बदरपुर बल्लभगढ़ मेट्रो कारिडोर का सौंदर्यीकरण किया जाएगा। साथ ही स्मार्ट सिटी लिमिटेड का ऑफिस नगर निगम मुख्यालय के अंदर ही बनाया जाएगा। इसके अलावा चौक-चौराहों पर प्रतिमा आदि लगाने की मंजूरी मिल गई है। दस से 15 दिन में सभी प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो जाएगा।

शहर के सभी 40 वार्डों में पानी का समान वितरण न होने से गर्मी में मारामारी होती है

शहर के सभी 40 वार्डों में पानी का समान वितरण न होने से गर्मी में मारामारी होती है। आए दिन नगर निगम मुख्यालय पर मटके फूटते हैं और विरोध प्रदर्शन होता है। क्योंकि प्रभावशाली निगम पार्षद व राजनेता निगम अधिकारियों पर दबाव डालकर रैनीवेल लाइन से सप्लाई होने वाले पानी को अपनी-अपनी ओर खींच लेते हैं। कई इलाकों में 24 घंटे पानी की सप्लाई होती है तो कहीं दो-चार घंटे भी नहीं मिल पाता। आने वाले दिनों में इस अव्यवस्था पर रोक लगेगी।

सभी को समान रूप से मिलेगा पानी, चोरी भी रुकेगी

फरीदाबाद स्मार्ट सिटी लिमिटेड की सीईओ डॉ. गरिमा मित्तल ने बताया कि वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर की बैठक हुई। इसमें हरियाणा अर्बन लोकल बॉडी के एडीशनल चीफ प्रिंसिपल सेक्रेटरी व चेयरमैन एसएन रॉय शामिल हुए। उन्होंने बताया इस बैठक में तीन प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने की मंजूरी मिली है। ये तीन प्रोजेक्ट स्काडा, मेट्रो पिलर की सुंदरता और चौक चौराहों पर प्रतिमाएं लगाने के हैं। स्काडा सिस्टम पर 28 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इससे रैनीवेल की लाइनों को ठीक किया जाएगा।

बूस्टरों पर लगाए जाएंगे सेंसर

स्काडा सिस्टम के तहत कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में बैठकर सभी पानी की लाइनों पर निगरानी रखी जाएगी। स्मार्ट सिटी के अधिकारी अपने मोबाइल फोन पर भी इसकी निगरानी कर सकेंगे। इस प्रोजेक्ट के तहत सभी बूस्टरों पर सेंसर लगाए जाएंगे। यहां कितना पानी आया और कितना आगे सप्लाई किया गया। इस प्रोजेक्ट के लागू होने के बाद पानी की बर्बादी नहीं होगी। कोई पानी की लाइन से चोरी भी नहीं कर सकेगा।

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का बढ़ेगा दायरा

कांग्रेस विधायक नीरज शर्मा ने शहरी विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव से मुलाकात कर स्मार्ट सिटी प्राेजेक्ट का दायरा बढ़ाने की मांग की। उन्होंने संयुक्त सचिव को पत्र लिख एनआईटी फरीदाबाद के एयरफोर्स रोड को स्मार्ट सिटी में शामिल करने की मांग की। उन्होंने मंत्रालय के संयुक्त सचिव कुणाल कुमार से मुलाकात कर कहा कि फरीदाबाद को स्मार्ट सिटी में शामिल किए पांच वर्ष का समय हो गया है। मगर अभी तक एनआईटी और बल्लभगढ़ क्षेत्र इसके दायरे में नहीं आए हैं । जबकि दोनों नगर निगम का हिस्सा हैं।

मेट्रो पिलर बनाए जाएंगे सुंदर

डॉ. मित्तल ने बताया करीब 3 करोड़ रुपए की लागत से बड़खल चौक से लेकर अजरौंदा चौक के बीच आने वाले 138 मेट्रो पिलरों पर सुंदर नक्काशी की जाएगी। इस पर 10 दिन के अंदर काम शुरू हो जाएगा। इसके अलावा एरिया बेस्ड के अंदर चौक चौराहों पर प्रतिमाएं लगाने की याेजना है। इस पर करीब 42 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। इसके अलावा निगम मुख्यालय परिसर में स्मार्ट सिटी का नया ऑफिस बनाने का डीपीआर पास कर दिया गया है। इसमें कमांड एंड कंट्रोल सेंटर, फरीदाबाद सर्विस ट्रांसपोर्ट लिमिटेड व स्मार्ट सिटी का ऑफिस बनेगा। इस पर करीब 16 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here