पोषक माह – संतुलित आहार अच्छे स्वास्थ्य का आधार

शिक्षा विभाग के आदेशानुसार राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय एन एच तीन फरीदाबाद की जूनियर रेडक्रॉस, सैंट जॉन एम्बुलेंस ब्रिगेड और गाइडस ने संयुक्त रूप से प्राचार्य रविन्द्र कुमार मनचन्दा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय पोषक माह के अंतर्गत बालिकाओं के अच्छे स्वास्थ्य के लिए विभिन्न कार्यक्रमों को आयोजित किया। जूनियर रेडक्रॉस और ब्रिगेड प्रभारी प्राचार्य प्राचार्य रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने कहा कि पोषण मास के अंतर्गत यह मास मानव शरीर के लिए उचित पोषण के महत्व और भूमिका पर प्रकाश डालता है। आवश्यक पोषक तत्वों और कैलोरी के संयोजन के साथ संतुलित आहार मानव शरीर के सुचारू कार्य करने और विकास के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है। जब भारत तेजी से और गहनता से यह सुनिश्चित करने के लिए आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है तब समग्र पोषण में सुधार की दिशा में एक केंद्रित और समेकित दृष्टिकोण के लिए यह आवश्यक है कि अपने आहार में संपूर्ण पोषक तत्वों को सम्मिलित किया जाए। उन्होंने बताया कि आहार में विविधता और पौष्टिकता को बढ़ाने के लिए बाजरा, दालें, बारह मास उपलब्ध होने वाले और मौसमी स्थानीय सब्जियों, फलों आदि का उपयोग करने के लिए बच्चों को जागरूक किया गया। रविंद्र कुमार मनचन्दा ने कहा कि पोषक माह के चारों सप्ताह के थीम इस प्रकार हैं प्रथम सप्ताह पोषण वाटिका , द्वितीय सप्ताह के लिए योग और आयुष, तीसरे सप्ताह के लिए क्षेत्रीय पोषण किट और चौथे सप्ताह के लिए अत्यधिक रूप से तीव्र कुपोषित बच्चों की पहचान और पौष्टिक भोजन का वितरण। प्राचार्य ने बताया कि एनीमिया शिविर, एसएएम बच्चों की ब्लॉक स्तर पर पहचान के लिए अभियान, बच्चों में एसएएम के प्रसार से निपटने के लिए एक पहल के रूप में एसएएम बच्चों के लिए पर्यवेक्षित पूरक आहार कार्यक्रम पांच वर्ष की आयु तक, तीव्र कुपोषण के सामुदायिक प्रबंधन के लिए संवेदीकरण आदि कार्यक्रम सरकार द्वारा वृहद स्तर पर चलाए जा रहे हैं। आज बच्चों ने पोषक तत्वों की भोजन में आवश्यकता पर पोस्टर बना और स्लोगन लिख कर पुष्ट बनने का संदेश भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य रविंद्र कुमार मनचन्दा ने मौलिक मुख्याध्यापिका पूनम, अंशुल, रेखा, रेणु, कविता, सूबे सिंह और संजय मिश्रा तथा सभी बालिकाओं को अपने आहार में पौष्टिक भोजन लेने के लिए प्रेरित किया।

Leave a Comment