पुलिस रिमांड के दौरान कुख्यात गैंगस्टर काला जेठेड़ी ने खोले कई राज

हरियाणा सहित चार राज्यों में हत्या डकैती स्नैचिंग आम्र्स एक्ट सहित 35 मुकदमे दर्ज
फरीदाबाद, 15 सितम्बर । क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 द्वारा ट्रांजिट रिमांड पर लिए गए कुख्यात आरोपी काला जठेड़ी ने कई राज उजागर किए हैं। क्राइम ब्रांच 48 द्वारा आरोपित को 8 सितंबर को अदालत में पेश करके 7 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया था, जिसमें उसने पूर्व में की गई कई वारदातों का खुलासा किया। आरोपी के खिलाफ हरियाणा सहित राजस्थान, पंजाब व दिल्ली में हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती, स्नेचिंग व अवैध हथियार सहित करीब 35 मुकदमे दर्ज हैं जिसमें 6 मुकदमे फरीदाबाद के शामिल है। गौरतलब है कि 1 फरवरी 2020 को गुरुग्राम पुलिस द्वारा मोस्ट वांटेड इनामी बदमाश संदीप उर्फ काला जठेड़ी को फरीदाबाद कोर्ट से गुरुग्राम ले जाया जा रहा था। रास्ते में गुरुग्राम फरीदाबाद रोड पर हनुमान मंदिर के पास आरोपी संदीप के साथियों ने मिलकर कैदी वैन पर फायरिंग करते हुये संदीप को छुड़ाकर ले गए थे जिसमें एक पुलिसकर्मी को गोली भी लगी थी। उपरोक्त मामला आरोपियों के खिलाफ थाना धौज में दर्ज किया गया था। इसके अलावा आरोपी को पीओ घोषित करके उसके खिलाफ पीओ के तीन अन्य मुकदमे दर्ज किए गए। उपरोक्त मामले में क्राइम ब्रांच की टीम ने संदीप उर्फ काला जेठडी को पुलिस से छुड़ाने में शामिल आरोपी कपिल उर्फ निन्नी, नरेश उर्फ सेठी, धन सिंह, जोगिंदर, आशु, राजेश, प्रदीप उर्फ भोला, विकास उर्फ मिता उर्फ पहलवान, अंशुल, अरुण, मनजीत, ओम प्रकाश, कप्तान और रवि उर्फ भोला को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस हिरासत से भागने के पश्चात आरोपी ने विभिन्न स्थानों पर कई वारदातों को अपने गुर्गों के माध्यम से अंजाम दिलवाया जिसमें सोनीपत में हत्या की दो,यमुनानगर व पंजाब के कोटकपूरा की एक-एक वारदात तथा सिरसा के गांव चौटाला में शराब ठेकेदार की हत्या की एक वारदात शामिल है जिसमें आरोपी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से शामिल था। इसके अलावा आरोपी ने कई लोगों को मारने की कोशिश भी की गई जिसमें दिल्ली के छावला व नरेला में दो व्यक्तियों के घर पर गोलीबारी की गई। पंजाब के कोटकपूरा में मनप्रीत की हत्या करने की कोशिश की गई जिसमें मुठभेड़ के दौरान आरोपी का साथी पलवल का रहने वाला कृष्ण मारा गया था। भारत से बाहर दुबई और मलेशिया में बैठकर गैंग ऑपरेट करने वाला जठेड़ी 12वीं पास है। उसने पहले केबल ऑपरेटर का काम शुरू किया लेकिन जल्द ही जुर्म की दुनिया की तरफ मुड़ गया। साल 2004 में जठेड़ी के खिलाफ झपटमारी का केस दर्ज हुआ था। फिर कुछ साल बाद ही हरियाणा के सांपला और फिर गोहाना में हुई हत्याओं में उसका नाम आ गया। पुलिस प्रवक्ता श्री सूबे सिंह ने बताया कि आरोपी 7 लाख का इनामी बदमाश है। लंबे समय से जुर्म की दुनिया में सक्रिय काला जठेड़ी का नाम दिल्ली में हुई पहलवान सागर धनखड़ की हत्या के बाद अचानक से सुर्खियों में आया था।

Leave a Comment