मानव रचना ने “मशीन लर्निंग, बिग डेटा, क्लाउड एंड पैरेलल कंप्यूटिंग: ट्रेंड्स, पर्सपेक्टिव्स और प्रॉस्पेक्ट्स” पर IEEE इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस की मेजबानी की

सम्मेलन के लिए प्रतिष्ठित संस्थानों से 500 से अधिक पेपर सबमिट किए गए

फरीदाबाद, 11 जून, 2022: कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग, एफईटी, मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (एमआरआईआईआरएस) ने “मशीन लर्निंग, बिग डेटा, क्लाउड एंड पैरेलल कंप्यूटिंग: ट्रेंड्स, पर्सपेक्टिव्स और प्रॉस्पेक्ट्स” पर आईईईई (IEEE) इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस (कॉम-आईटी-कॉन-2022) की मेजबानी की।

सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर के शिक्षाविदों, शोधकर्ताओं और उद्योग जगत के लीडरों को मशीन लर्निंग, बिग डेटा, क्लाउड कंप्यूटिंग और समानांतर कंप्यूटिंग जैसे कंप्यूटिंग विषयों में सबसे हालिया प्रगति पर चर्चा और बहस करने के लिए एक साथ लाना था। सम्मेलन का उद्देश्य भविष्य के सहयोग को सुविधाजनक बनाने के लिए अन्य देशों के अनुसंधान टीमों और विशेषज्ञों के बीच वैज्ञानिक रूप से संबंध स्थापित करना है।

सम्मेलन का उद्घाटन माननीय मुख्य अतिथि प्रो जे पी गुप्ता, पूर्व सदस्य सचिव, एआईसीटीई; गेस्ट ऑफ ऑनर, डॉ. मंजीत दहिया, वीपी और हेड, एमएल एंड डेटा साइंस, कार देखो; डॉ. आई.के. भट, कुलपति, एमआरयू; डॉ. प्रदीप कुमार, प्रो-वाइस-चांसलर, एमआरआईआईआरएस और डीन एफईटी & एफएडी, एमआरआईआईआरएस; श्री आर.के. अरोड़ा, रजिस्ट्रार एमआरआईआईआरएस; डॉ. गीता निझावन, एसोसिएट डीन, एफईटी, एमआरआईआईआरएस; डॉ. सुप्रिया पी.पांडा (सम्मेलन अध्यक्ष), प्रोफेसर और प्रमुख, सीएसई विभाग; डॉ. तपस कुमार (सम्मेलन सह-अध्यक्ष), प्रोफेसर और प्रमुख, सीएसई विभाग (विशेषज्ञता), एफईटी, एमआरआईआईआरएस; और अन्य फैकल्टी मेंबर्स।

डॉ. प्रदीप कुमार ने उद्योग और शिक्षा जगत के बीच के अंतर को मिटाने में आईईईई सम्मेलन की भूमिका के बारे में बताया। डॉ. मंजीत दहिया ने अनुसंधान के वास्तविक समय के उदाहरणों का हवाला देते हुए एआई / एमएल की भूमिका को रेखांकित किया।

प्रो. जे.पी. गुप्ता ने रोबोटिक प्रोसेस ऑटोमेशन (आरपीए), एज कंप्यूटिंग, ऑगमेंटेड रियलिटी, वर्चुअल रियलिटी, ब्लॉकचैन, क्वांटम कंप्यूटिंग, साइबर सिक्योरिटी, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), बिग डेटा जैसे प्रमुख क्षेत्रों को संबोधित किया जो व्यापार की सफलता के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

ट्रेंडिंग टॉपिक्स पर उद्योग जगत के जाने-माने लोगों ने प्रमुख सत्र पर लेक्चर दिया: प्रोफेसर राहुल बैनर्जी, निदेशक, एलएनएमआईआईटी जयपुर ने ‘मानसिक स्वास्थ्य सहायता और खेल में चोट की रोकथाम: एक वितरित हाइब्रिड इंटेलिजेंट सिस्टम दृष्टिकोण’ के बारे में बात की; डॉ. अंकित अग्रवाल, रिसर्च प्रोफेसर, नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी, यूएसए ने विज्ञान को गति देने के लिए “एआई + एचपीसी” पर व्याख्यान दिया; प्रोफेसर अरुण के पुजारी, प्रोफेसर एमेरिटस, और सलाहकार, महिंद्रा यूनिवर्सिटी, हैदराबाद ने ‘डेटा इंटेंसिव सोसाइटी में कंप्यूटिंग’ के बारे में बात की; कर्नल इंद्रजीत सिंह, मुख्य साइबर अधिकारी जिन्होंने मेटा-वर्स के विभिन्न पहलुओं पर ध्यान केंद्रित किया; और डॉ. भरत रावल, प्रोफेसर और डिपार्टमेंट चेयर, कैपिटल टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी, यूएसए ने ‘स्प्लिट प्रोटोकॉल में सुरक्षा और गोपनीयता’ के बारे में बात की।

मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज, एमिटी यूनिवर्सिटी, उत्तरांचल यूनिवर्सिटी, गलगोटिया यूनिवर्सिटी, एनआईटी, कुरुक्षेत्र, जेसी बोस यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, वाईएमसीए, फरीदाबाद, एनसीयू, और अंसल विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों की अध्यक्षता में कुल दस तकनीकी सत्र हुए। इन सत्रों के दौरान 69 शोधपत्र प्रस्तुत किए गए। यह उल्लेखनीय है कि सम्मेलन में आईआईटी, डीटीयू, एनएसआईटी, सीडीएसी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों और ग्रीस, ओमान और संयुक्त राज्य अमेरिका के विश्वविद्यालयों के साथ-साथ भारत, संयुक्त राज्य अमेरिका और इंडस्ट्री से 500 से अधिक पत्र प्रस्तुत किए गए।

समापन सत्र के दौरान, आईईईई द्वारा सह-प्रायोजित दो दिवसीय सम्मेलन की एक संक्षिप्त रिपोर्ट डॉ. चारु पुजारा, प्रोफेसर, सीएसई द्वारा प्रस्तुत की गई, जिसके बाद पुरस्कार वितरण समारोह हुआ। अंजलि एस मेनन, श्रुति सीजे, डॉ. लिजिया ए को सर्वश्रेष्ठ पेपर का पुरस्कार मिला।

Leave a Comment