जे.सी. बोस विश्वविद्यालय और आईआईएलएम विश्वविद्यालय के बीच समझौता

फरीदाबाद, 13 जुलाई – अकादमिक और अनुसंधान गतिविधियों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से जे.सी. बोस विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने आज आईआईएलएम विश्वविद्यालय, गुरुग्राम के साथ विद्यार्थियों और शिक्षकों के लिए परस्पर सहयोगी अनुसंधान परियोजनाओं, प्रशिक्षण और विकास कार्यक्रमों और परामर्श परियोजनाओं के संचालन के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।
वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर आयोजित कार्यक्रम में जे.सी. बोस विश्वविद्यालय की ओर से कुलससचिव डॉ. एस.के. गर्ग और आईआईएलएम विश्वविद्यालय की ओर से कुलपति प्रो. सुजाता शाही ने कुलपति प्रो. दिनेश कुमार की उपस्थिति में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर मैनेजमेंट स्टडीज के डीन प्रो. विक्रम सिंह और लिबरल आर्ट्स एंड मीडिया स्टडीज के डीन प्रो. अतुल मिश्रा और निदेशक इंडस्ट्री रिलेशन्स डॉ. रश्मि पोपली भी उपस्थित थीं।
अकादमिक सहभागिता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि अपेक्षाकृत एक नया विश्वविद्यालय होने के बावजूद आईआईएलएम विश्वविद्यालय ने प्रौद्योगिकीय विकास के माध्यम से नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देने में अकादमिक क्षेत्र में एक अच्छा प्रभाव छोड़ा है। विश्वविद्यालय प्रबंधन अध्ययन और लिबरल आर्ट्स के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य कर रहा है। जे.सी. बोस विश्वविद्यालय भी प्रबंधन अध्ययन और लिबरल आर्ट्स पाठ्यक्रमों पर विशेष बल दे रहा है। ऐसे में यह अकादमिक सहभागिता दोनों विश्वविद्यालय को परस्पर शैक्षणिक और अनुसंधान गतिविधियों को बढ़ावा देने में मदद करेगी।
प्रो. सुजाता शाही ने कुलपति प्रो. दिनेश कुमार को आश्वासन दिया कि आईआईएलएम विश्वविद्यालय इस सहभागिता के प्रभावी क्रियान्वयन क्रे लिए हर संभव सहयोग देगा।

Leave a Comment