कार्यशाला में विद्यार्थियों ने सीखे सोलर लैंप बनाने

0

Faridabad/Atulya Loktantra : ग्रामीण क्षेत्र में लागत प्रभावी, विश्वसनीय और प्रदूषणमुक्त सौर ऊर्जा की पहुंच को बढ़ावा देने और सौर तकनीशियन प्रशिक्षण प्रदान करने के उद्देश्य से जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद के साथ युवाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य से ‘स्टूडेंट सोलर एंबेसडर कार्यशाला’ का आयोजन किया गया, जिसमें विद्यार्थियों को सोलर स्टडी लैंप को असेंबल करने का प्रशिक्षण दिया गया।

इस कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर किया गया था। कार्यशाला के दौरान, विश्वविद्यालय साथ-साथ गोद लिए गए गांवों के विभिन्न स्कूलों के लगभग 75 छात्रों ने भाग लिया तथा सौर स्टडी लैंप को असेंबल करने का प्रशिक्षण प्राप्त किया। कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कार्यशाला में शामिल संकाय सदस्यों के प्रयासों की सराहना की तथा कार्यशाला के सफल आयोजन बधाई दी।

इस अवसर पर विज्ञान प्रसार, केन्द्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग से वैज्ञानिक-‘एफ’ डॉ. कपिल त्रिपाठी द्वारा सौर ऊर्जा के प्रभावी उपयोग पर एक विशेषज्ञ व्याख्यान का आयोजन किया गया, जिसमें डॉ. त्रिपाठी ने सौर ऊर्जा के महत्व पर बल दिया। इस कार्यक्रम के भाग लेने वाले विद्यार्थियों ने सौर राजदूत बनकर पर्यावरण की रक्षा करने का संकल्प लिया।

कार्यक्रम के सफल आयोजन में संकाय सदस्यों डॉ. साक्षी कालरा, डॉ. शैलजा जैन, सुश्री रश्मि चावला, डॉ. बिंदू मंगला, डॉ. भास्कर नागर, श्री ओमप्रकाश और श्री सुनील सहयोग दिया।

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here