आनंद मेले में आकर्षण का केंद्र बनी माँ की भव्य मूर्ति

0

Faridabad/Atulya Loktantra : सर्वजनीन दुर्गा पूजा समिति, अशोका एंक्लेव द्वारा श्री दुर्गा पूजा समारोह का आयोजन आनंद मेला के रूप में विधिवत किया गया, जो आगामी 8 अक्टूबर तक चलेगा। आनंद मेले में माता की विभिन्न आकार-प्रकार की मूर्तियां भी लोगों को अपनी ओर खूब आकर्षित कर रही हैं।

समिति के अध्यक्ष जयंत सेन, सचिव लींकन देव, कोषाध्यक्ष शेखर पाठक, प्रशांती शी, संयोजक सचिव राजीव पबरेजा तथा इंटीरियर डिजाइनर आदित्य मुखर्जी के मुताबिक दुर्गा पूजा को दुर्गोत्सव या शरदोत्सव भी कहा जाता है। इसमें देवी दुर्गा की पूजा की जाती है। इसमें छह दिनों को महालय, षष्ठी, महासप्तमी, महा अष्टमी, महा नवमी व विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है।

आनंद मेला के दौरान सोसायटी में सामूहिक भोज, नृत्य व गायन के कार्यक्रम रखे गये जिनमें सभी सदस्यों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। आनंद मेला में बच्चों ने भी सामूहिक नृत्य व गायन प्रस्तुत किया। वहीं बच्चों के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया गया, जिनमें वे उत्साहपूर्वक भाग ले रहे हैं।

मेला पंडाल की भव्य रूप में साज-सज्जा की गई, जिसकी रौनक देखते ही बन रही है। इस पांच दिवसीय उत्सव में सुबह-शाम विशेष तौर पर पूजा-आरती के कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। मेले में डांडिया व गरबा नृत्य के लिए स्थानीय व बाहरी राज्यों के कलाकार भी आमंत्रित किए गए, जिनके साथ अशोका एंक्लेव के वासी भी उत्साह के साथ ताल से ताल मिलाकर रहे हैं। आयोजकों के अनुसार 8 अक्टूबर को माता की मूर्तियों का विसर्जन किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here