आज आठवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को पूर्व मंत्री विपुल गोयल ने भी मनाया।

आज पूरे विश्व में आठवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को एक पर्व के रूप में मनाया जा रहा है । माननीय प्रधानमंत्री ने जहां मैसूर में 15 हजार से ज्यादा लोगो के साथ योग किया तो केंद्र सरकार से 75 मंत्री बार्डर से लेकर अलग अलग जगहो पर आज योग करने पहुंचे। देश के लिये बड़े गर्व का विषय है कि एक साथ देश में 75 हजार जगहों पर योग करके अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जा रहा है

इसी कड़ी में हरियाणा से पूर्व उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने निजामुदिन रेलवे स्टेशन दिल्ली में पहुँच कुलियों को योग दिवस् में शामिल करते हुए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया। इस अवसर् पर सभी कुलियों ने भी योग दिवस मे भाग लेकर् ये सिद्ध कर दिया कि मानवता के लिए योग जो आज कि थीम है वह सार्थक कदम है ओर जैसाकी माननीय् प्रधानमंत्री ने भी अपने सम्बोधन मे कहा है कि अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति को भी इसमे शामिल करना एक सार्थक प्रयास होगा।

पूर्व मंत्री विपुल गोयल ने कहा कि दुनिया के कई देशो मे योग पहुँचाने मे भारत् के अध्यात्मिक ओर योग गुरुओ कि भूमिका अहम रही है। प्राचीनकाल से ही दुनिया भर मे भारत की छवि योग गुरु की रही है। पूर्व मंत्री ने माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद् करते हुए कहा कि आज विश्व स्तर पर योग को पहचान दिलाने में है प्रधानसेवक का सबसे बड़ा योगदान।

इस अवसर पर पूर्व मंत्री ने कहा आज तनाव भरी जिंदगी में लाखो लोग मानसिक ओर गंभीर बीमारियों से ग्रस्त होते जा रहे है जिस कारण काफी लोग तो डिप्रेसन के शिकार भी हो रहे है। इन् सभी बीमारियों से निजात दिलाने का योग सबसे बड़ा साधन है जिससे तन ओर मन दोनो को स्वस्थ रखा जा सकता है।

पूर्व मंत्री ने कहा कि योग भारतीय संस्कृति से जुड़ा है ओर बड़े गर्व कि बात है अब योग के माध्यम से भारतीय संस्कृति का प्रचार ओर प्रसार विश्व स्तर पर हो रहा है जिसका श्रेय हमारे योग गुरुओं को भी जाता है। पूर्व मंत्री ने सभी लोगो से अपील करते हुए कहा कि योग को अपने जीवन मे जरूर अपनाये ओर जीवन् सरल बनाये।

Leave a Comment