“करो योग, रहो निरोग” नुक्कड़ नाटक से योग के लिए जागरूक

FARIDABAD : ”योग को अपनाना है, जीवन को सफल बनाना है।” योग को अपना कर अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए लोगों को प्रेरित का यह संकल्प फोर्थ वाॅल प्रोडक्शंस के कलाकारों ने एक नुक्कड़ नाटक के माध्यम से दिखाया। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर ”करो योग, रहो निरोग” नुक्कड़ नाटक का मंचन किया गया, जिसमें लोगों को योग करने के प्रति जागरूक किया गया। शहर के रोज़ गार्डन में सुबह-सवेरे यह नाटक कला एवं सांस्कृतिक कार्य विभाग हरियाणा के सहयोग से फोर्थ वाॅल प्रोडक्शंस ने प्रस्तुत किया।

नुक्कड़ नाटक लोगों को जागरूक करने का एक अच्छा माध्यम है। ”करो योग, रहो निरोग” नुक्कड़ नाटक में दादा जी और पोतों के माध्यम से दो अलग-अलग पीढ़ियों की सोच को दिखाया गया। घर के बुजुर्ग दादा योग करते हैं तो उन्हें देख कर पोते उनका मज़ाक उड़ाते हैं। वहीं अपनी जीवन शैली को आलस के कारण बिलकुल बेकार कर लेते हैं। अचानक दोनों में से एक पोते की तबीयत खराब होती है तो डाॅक्टर उसे ठीक करने के लिए बहुत ही आसान, बढ़िया और मुफ्त इलाज के रूप में योग करने का तरीका बताता है। उनके माता-पिता भी हमेशा घर में छोटी-छोटी बातों पर लड़ते रहते हैं। उन दोनों को उनका एक रिश्तेदार योग करने का तरीका सुझाता है। वह दोनों योग को जीवन में अपनाते हैं और कुछ दिन योग करने से उनके बीच की लड़ाई भी बंद हो जाती है। इस तरह कहानियों के साथ मनोरंजक तरीके से गाने गाते हुए कलाकारों ने लोगों को योग के प्रति जागरूक किया।

इस नुक्कड़ नाटक में अभिषेक राठौड़, कमल, कौशल, प्रियंका, हेमंत, आकाश, अभिषेक और नकुल ने अभिनय किया। इसका लेखन और निर्देशन डाॅ0 अंकुश शर्मा ने और सह-निर्देशन दीपक पुष्पदीप ने किया।

Leave a Comment