क्राइम ब्रांच डीएलएफ की बड़ी कामयाबी, एसी नगर में गोली मारकर की गई मुस्ताक की हत्या के मामले में क्राइम ब्रांच ने तत्परता दिखाते हुए 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर भेजा सलाखों के पीछे

फरीदाबाद: डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादियान ने प्रेस वार्ता के दौरान जानकारी देते हुए बताया कि क्राइम ब्रांच DLF प्रभारी अनिल कुमार की टीम ( उप.नि अमर सिह , स.उप.नि .कमलजीत सिहँ , PSI दीपक कुमार , स.उप.नि. समुन्द्र सिहँ , स.उप.नि. विजय कुमार, स.उप.नि. राजबीर सिहँ , मु0सि0 आनन्द कुमार , सि0 प्रितम ,सि0 नसीब ,सि0 नकुल,सि0 नितिन,सि0 अजीत ) ने मुस्ताक हत्याकांड के मुख्य आरोपी विनोद एवं सुटर अन्ना सहित 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर बड़ी कामयाबी हासिल की है।

गिरफ्तार किए गए आरोपियों में आरोपी शूटर अरुण उर्फ अन्ना, अजीत कालिया, संदीप, विनोद, श्याम उर्फ मोना पंडित, राजेश उर्फ शिवम उर्फ बारा तथा चंदन का नाम शामिल है। इस वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी शूटर अरुण गाजियाबाद का रहने वाला है तथा बाकी अन्य आरोपी फरीदाबाद के ही निवासी हैं।

आरोपी अजीत कालिया, संदीप, श्याम, राजेश और चंदन को पहले ही जेल भेजा जा चुका था वहीं आरोपी विनोद को आज जेल भेजा गया तथा शूटर अरुण को कल अदालत में पेश करके जेल भेजा जायेगा।

आरोपियों के खिलाफ दिनांक 10 नवंबर को हत्या मारपीट एवं आर्म्स एक्ट की धाराओं के अंतर्गत थाना कोतवाली में मुकदमा न0 434 दर्ज किया गया था।

आपको बता दें कि दिनांक 10 नवंबर को आरोपी शूटर अरुण उर्फ अन्ना ने अपने एक साथी के साथ मिलकर मुस्ताक नामक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में अन्य कई आरोपियों का भी घटनास्थल पर मौजूद होना पाया गया था। वारदात को अंजाम देकर आरोपी मौके से फरार हो गए और राजस्थान के जोधपुर व जयपुर, उत्तर प्रदेश के बागपत और अन्य स्थानों पर पुलिस की गिरफ्त से बचने के लिए नए नए ठिकाने तलाशने लगे।

पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा ने मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए क्राइम ब्रांच डीएलएफ को मामले की जांच की जिम्मेवारी सौंपी और वारदात में शामिल आरोपियों कि जल्द से जल्द तलाश करके गिरफ्तार करने तथा पीड़ित पक्ष को न्याय दिलाने के निर्देश दिए जिसके तहत डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादयान के आदेश अनुसार एसपी क्राइम सुरेंद्र स्योराण मार्गदर्शन में कार्य करते हुए क्राइम ब्रांच डीएलएफ प्रभारी अनिल कुमार की टीम ने आरोपियों को पकड़ने के लिए कई स्थानों पर छापेमारी की। इस मामले में सबसे पहले आरोपी अजीत कालिया तथा संदीप को मात्र 24 घंटे के अंदर दिनांक 11 नवंबर को ही गुलावद से गिरफ्तार किया गया था। मामले में गहनता से पूछताछ के लिए आरोपियों को अदालत में पेश करके 5 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया जिसमें आरोपियों ने वारदात में शामिल होने की बात कबूली।

उन्होंने जानकारी देते हुए हुए बताया कि क्राइम ब्रांच द्वारा की गई पूछताछ में आरोपियों ने खुलासा किया कि उनकी मुस्ताक के साथ पुरानी रंजिश थी। पूर्व में वर्ष 2019 में आरोपी विनोद तथा योगेश की मुस्ताक के साथ हाथापाई हुई थी जिसमें मुस्ताक ने ओयो होटल में विनोद के हाथ-पैर तुड़वा दिए थे। इसी रंजिश के चलते आरोपी विनोद ने अपने साथियो के साथ मिलकर मुस्ताक से बदलना लेने की फिराक में था। योजना अनुसार दिनाक 10 नवंबर को जब मुस्ताक अपने घर के पास रेहडी पर बिरयानी खा रहा था तो मुस्ताक को विनोद ने अपने साथ लाये हुये शुटर अरूण उर्फ अन्ना के साथ मिलकर अधाधुन्ध गोलीया मारकर मुस्ताक की हत्या कर दी इसी हत्याकाण्ड के दौरान एक अन्य व्यकित को भी गोली लगी।

इसके पश्चात आरोपियों की निशानदेही पर मुख्य आरोपी विनोद को दिनांक 15 नवंबर को बागपत से गिरफ्तार करके 7 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया जिसमें पुलिस जांच के दौरान अन्य आरोपी श्याम उर्फ मुन्ना पंडित, राजेश उर्फ शिवम उर्फ बारा तथा चंदन को 17 नवंबर को गिरफ्तार किया गया। इसके पश्चात दिनांक 21 नवंबर को इस वारदात को अंजाम देने वाले शूटर आरोपी अरुण को भी अनंगपुर ऐरिया से गिरफ्तार किया गया। इस मामले में आरोपियों के कब्जे से दो पिस्टल, 2 जिंदा कारतूस, वारदात में प्रयोग एक यामाहा मोटरसाइकिल, तथा एक स्कॉर्पियो गाड़ी बरामद की गई है।

आरोपियो की अपराधिक पृष्ट भूमि काफी लम्बी है। आरोपियों के खिलाफ लड़ाई झगड़ा, लूटपाट, अवैध हथियार सहित कई मुकदमे दर्ज है। करीब 15 दिन पहले आरोपी विनोद ने अपने साथियो के साथ मिलकर सैक्टर 55 से एक स्कॉर्पियो गाड़ी भी जबरदस्ती छीन ली थी, स्कॉर्पियो को जयपुर में अजमेर रोड से बरामद किया गया। इस मामले में अभी आरोपी योगेश व राजेश की गिरफ्तारी बकाया है जिन्हें पुलिस द्वारा जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। PRO

Leave a Comment