क्राइम ब्रांच डीएलएफ ने विकास चौधरी हत्याकांड के शूटर को किया गिरफ्तार, आरोपी 6 दिन के पुलिस रिमांड पर, पूछताछ जारी

फरीदाबाद: डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादयान के दिशा निर्देश के तहत कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच डीएलएफ प्रभारी इंस्पेक्टर योगेंद्र की टीम ने वर्ष 2019 के हत्या के मुकदमे में आरोपी शूटर को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता सुबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी का नाम विकास उर्फ मालहे है जो गुरुग्राम जिले के धनवापुर गांव का रहने वाला है। आरोपी कौशल गैंग का सदस्य है जिसने वर्ष 2019 में अपने साथियों के साथ मिलकर फरीदाबाद के रहने वाले प्रॉपर्टी डीलर विकास की हत्या कर दी थी। मृतक विकास के भाई की शिकायत के अनुसार दिनांक 26 जून 2019 को सुबह करीब 9:00 बजे जब उसका भाई सेक्टर 9 की मार्केट में एशियन अस्पताल के ऊपर स्थित जिम के लिए पार्किंग में पहुंचा था तो वहां पर आरोपी के साथियों ने मिलकर उसके भाई की गाड़ी पर ताबड़तोड़ फायरिंग की जिसमें उसके भाई की मृत्यु हो गई थी। थाने में आरोपियों के खिलाफ हत्या की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करके मामले की जांच शुरू की गई।

इस मामले में फरीदाबाद पुलिस द्वारा मामले में शामिल कौशल गैंग के मुखिया कौशल तथा अमित सहित 20 आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है तथा एक आरोपी रोहित गुड़गांव पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में मारा जा चुका है। इस मामले में फरार चल रहे आरोपी विकास को फरीदाबाद सेक्टर 12 से गिरफ्तार किया है। जिसे दिल्ली पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई थी। इसके पश्चात क्राइम ब्रांच डीएलएफ ने आरोपी को प्रोडक्शन पर लेकर गिरफ्तार कर लिया। आरोपी को अदालत में पेश करके 6 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है।

पुलिस रिमांड के दौरान प्राथमिक पूछताछ में सामने आया कि आरोपी बहुत ही शातिर अपराधी है जिसके ऊपर हरियाणा, पंजाब तथा उत्तर प्रदेश में हत्या के 7 मुकदमे दर्ज हैं। आरोपी पर लूट स्नैचिंग और हत्या की संगीन धाराओं में 14 मुकदमे दर्ज हैं और वह कौशल गैंग का सदस्य है। कौशल गैंग के करीब 250 सदस्य हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश तथा दिल्ली की जेलों में बंद है जो इन राज्यों में हत्या, लूट, डकैती, फिरौती जैसी सैंकड़ों वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। वर्ष 2019 में प्रॉपर्टी डीलर विकास से कौशल गैंग ने फिरौती मांगी थी जिसे विकास द्वारा मना करने पर आरोपियों ने विकास की हत्या करने की योजना बनाई और योजना के तहत आरोपियों ने 2 दिन तक विकास की रेकी की तथा मौका मिलते ही उसकी हत्या कर दी। पुलिस द्वारा इस मामले में वारदात में प्रयोग तीन गाड़ियां बरामद की जा चुकी है जिसमें एक स्कॉर्पियो, एक SX4 तथा एक स्विफ्ट गाड़ी शामिल है। पुलिस पूछताछ में सामने आया कि इस मामले में दो पिस्टल तथा एक देसी कट्टे का प्रयोग किया गया था जिसमें से आरोपी के साथी सचिन से एक देसी कट्टा बरामद किया था चुका है। एक पिस्टल आरोपी सज्जन से पुलिस रिमांड के दौरान बरामद किया गया है। आरोपी विकास से पूछताछ जारी है पूछताछ के बाद अदालत में पेश किया जाएगा।

Leave a Comment