किसानों को वोटबैंक के रूप में इस्तेमाल करती है भाजपा सरकार : ललित नागर

गांव नीमका में पूर्व विधायक के समक्ष मुआवजा न मिलने से परेशान ग्रामीणों ने रोया दुखड़ा,
फरीदाबाद। तिगांव विधानसभा क्षेत्र के करीब 20-22 गांवों के किसानों को आज तक मुआवजा न मिलने से उनमें सरकार के प्रति रोष व्याप्त है। किसान कई बार प्रशासन से गुहार लगा चुके है, लेकिन अभी तक उन्हें मुआवजा नहीं मिल पाया है। इसी मुद्दे को लेकर रविवार को किसानों ने गांव नीमका में एक बैठक का आयोजन किया, जिसमें मुख्य रूप से क्षेत्र के पूर्व विधायक ललित नागर ने शिरकत करके ग्रामीणों की समस्याएं सुनीं। ग्रामीणों ने ललित नागर को बताया कि वर्षाे से इस क्षेत्र के किसान रूके हुए मुआवजे की बाट जोह रहे है, भाजपा नेताओं ने उन्हें आश्वासन भी दिया था लेकिन अभी तक उन्हें मुआवजा नहीं मिला, जबकि सुप्रीमकोर्ट व हाईकोर्ट ने भी सरकार को बढ़ाकर मुआवजा दिए जाने के आदेश दिए हुए है, लेकिन सरकार कोई कार्यवाही नहीं कर रही। वहीं ग्रामीणों ने श्री नागर को बताया कि कल हुई बरसात के चलते पूरे गांव में जगह-जगह पानी भर गया है, जिससे जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है, लेकिन जलनिकासी के प्रशासन ने कोई उचित कदम नहीं उठाए। ग्रामीणों की समस्याएं सुनने के बाद पूर्व विधायक ललित नागर ने कहा कि भाजपा सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है, चाहे विकास की बात हो या फिर किसानों को मुआवजा देने की, यह सरकार हर मामले में फेल रही है। हैरानी की बात है कि सर्वाेच्च अदालत के आदेशों के बावजूद किसान आज भी मुआवजे की बाट जोह रहे है, जबकि भाजपा नेता किसान हितैषी होने के बड़े-बड़े दावे करते है, लेकिन उनके यह वायदे पूरी तरह से खोखले साबित हुए है। उन्होंने कहा कि भाजपा किसानों को केवल वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल करती है और सत्ता में आकर उनके हितों पर कुठाराघात करती है, आज देश का अन्नदाता अपनी मांगों को लेकर पिछले 10 महीनों से सडक़ों पर है, लेकिन इस सरकार के पास उनकी बात सुनने तक का समय नहीं है। इस मौके पर ललित नागर ने भाजपाईयों की स्वयंभू स्मार्ट सिटी पर तंज कसते हुए कहा कि एक दिन की बरसात ने स्मार्ट सिटी के विकास की पोल खोल दी है।। इस बरसात के चलते शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी जलभराव हो गया। हालात यह हो गए कि लोगों के वाहन सडक़ों पर बंद हो गए और उन्हें भारी परेशानियां पेश आई, क्या यही भाजपाईयों की स्मार्ट सिटी है? उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी के नाम पर जनता के गाढे खून पसीने की कमाई को लूटा जा रहा है और भाजपा सरकार के विकास के वादे पूरी तरह से जुमले साबित हो रहे है। उन्होंने ग्रामीणों को विश्वास दिलाया कि किसानों के मुआवजे व गांव में जल निकासी के मुद्दे को लेकर वह जल्द जिला उपायुक्त से मुलाकात करेंगे और उनकी समस्या का समाधान कराने का भरसक प्रयास करेंगे। इस अवसर पर राजकुमार नागर, जयपाल नागर, रमेश सिंह, फूल सिंह नागर, वीरू सिंह, रणजीत नागर, योगेंद्र नागर, कमल पंडित जी, अमरजीत सिंह, विपिन पंडित जी, कमल चंदीला, गंगाराम नरवत सहित अनेको ग्रामीण मौजूद थे।

Leave a Comment