महत्वकांशी माँ ने दिए संस्कार और बनाया ऋषि पुत्र को रावण

कल शहर की सबसे पुरानी, मार्किट नंबर 1 स्थित, विजय रामलीला कमेटी ने किया आगाज़ अपने 72 वें वार्षिक रामायण मंचन का। इस इतिहासिक मंच का उद्द्घाटन श्री मति सीमा त्रिखा, विधायिका बड़खल विधान सभा क्षेत्र एवं श्री मति सुमन बाला मेयर नगर निगम की गरिमामयी उपस्थिति में हुआ। आतिशबाज़िओ के साथ मंच का पर्दा खोला गया और पहले दिन के कार्यक्रम में एक नया दृश्य दिखाया गया जिसमे रावण (टेकचंद नागपाल) की माँ कैकसी (मनोज शर्मा ) कैसे अपने चार वेदों के ज्ञाता पुत्र को राक्षस बनाया और महा दरबार लगा कर पूरे आर्यव्रत में आतंक फैलाने की नीति बनाई यह दर्शाया गया। मंच पर सुबाहु मारीच से लेकर मेघनाथ कुम्भकर्ण तक अठारह माह योद्धा उपस्थित रहे जिसमे सबको धरती के हिस्से बांटे गए। मेघनाद (सारांश) को स्वर्ग लोक में और अहिरावण (लखन वर्मा) को पातळ लोक में भेजा गया। इस दृश्य को मंच पर पहली बार दर्शाया गया जिसमे मुख्य आकर्षण रहा घोड़े पर बैठा रावण काल को बंधी बनाये कमेटी के मुख्य द्वार से अंदर आया। चेयरमैन सुनील कपूर ने बताया की यह दृश्य केवल तीन दिन में लिखा व रिहर्सल करवाया गया है और टीम ने बहुत मेहनत की है। निर्देशक सौरभ कुमार द्वारा लिखित ये दृश्य संजय अरोड़ा एवं टीम द्वारा दर्शाया गया। आज इस कमेटी होगा दशरथ द्वारा श्रवण वध और कल होगा राम जन्म एवं तड़का वधः।

Leave a Comment