फरीदाबाद में 10 दिन से खड़े हैं 10 ऑक्सीजन टैंकर, लीक होने लगी गैस

5

फरीदाबाद, 08 जून (हि.स.)। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान देश व प्रदेश में हुई आक्सीजन की किल्लत को लेकर जिस प्रकार मरीज व उनके परिजनों को परेशानियां उठानी पड़ी, उसे शायद ही वह जिंदगी भर कभी भूल पाए। अब जब दूसरी लहर में स्थिति काबू में आ गई है तो आक्सीजन की किल्लत भी दूर होने लगी है और दूर-दराज से मंगाई जाने वाली आक्सीजन की खेप भी अब बीच में ही रोक दी गई है। ऐसे ही एक मामले में पिछले 10 दिनों से आक्सीजन के करीब 10 से ज्यादा टैंकर फरीदाबाद के ओल्ड रेलवे परिसर में खड़े हुए है, लेकिन अभी इन्हें कभी नहीं भेजा गया है। हालात यह है कि इन टैंकरों में से आक्सीजन लीक होने लगी है, लेकिन अभी तक इस मामले में कोई कारगर कदम नहीं उठाए गए है। ये टैंकर गुजरात के जामनगर, हजीरा व ओडीशा के राउरकेला व अंगुल से ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन के जरिए आए थे और प्रत्येक टैंकर में करीब 22 टन ऑक्सिजन है। जो कि अब खड़े खड़े लीकेज भी होने लगी है। कोरोना संक्रमण का जैसे-जैसे ग्राफ कम होने लगा, वैसे ही ऑक्सीजन की मांग में भी कमी आई है, जिसके चलते यह टैंकर खाली भी नहीं हो रहे हैं और कई दिनों से एक जगह रहने के कारण टैंकर चालक व हेल्पर भी परेशान हैं। टैंकर चालको ने बताया कि हमें अभी तक यह नहीं बताया गया है की ऑक्सीजन की सप्लाई कहां देनी है। इसके अलावा हमें घर भी नहीं जाने दिया जा रहा । आलम यह है कि फरीदाबाद रेलवे स्टेशन पर खड़े हुए 9 से 10 दिन हो चुके हैं । कई बार उन्होंने अपने अधिकारियों से बात करने की कोशिश भी की मगर कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला । टैंकर चालकों का कहना है कि जब तक उनके पास कोई संदेश नहीं मिल जाता तब तक वह ना तो घर जा सकते हैं और ना ही इन ऑक्सीजन टैंकरों को कहीं सप्लाई कर सकते हैं इसलिए उनके पास सिवा इंतजार करने के और कोई रास्ता नहीं है। वहीं जीआरपी सब इंस्पेक्टर राजपाल सिंह की देखरेख में सभी चालकों के रहन सहन और भोजन की व्यवस्था की गई है। सब इंस्पेक्टर राजपाल सिंह का कहना है कि उन्हें सभी ऑक्सीजन टैंकर चालकों की देखरेख करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है जिसे वह बखूबी निभा रहे हैं और उनके पास भी ऐसा कोई संदेश नहीं है कि इन टैंकर चालकों को कब यहां से जाने का मौका मिलेगा जब तक वह रहेंगे तब तक सब इंस्पेक्टर राजपाल उनके रहन-सहन और खान-पान के व्यवस्था करते रहेंगे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here