जहरीली हवा, धुआं-धुआं शहर, सड़क पर पटाखों का कूड़ा

0

New Delhi/Atulya Loktantra : रोशनी का त्योहार दिवाली खत्म हो गया. लोगों ने खुशी-खुशी इस दिन को मनाया, लेकिन दिवाली के अगले दिन यानी आज की सुबह सामान्य दिनों से कुछ अलग है. हवा में कुछ तीखापन है, आसमान में धुआं-धुआं सा है और सड़कें तो पटाखों के कूड़े से भरी हुई हैं. राजधानी दिल्ली हो, लखनऊ हो या फिर कोई और शहर, हर जगह का ऐसा ही हाल है. भले ही हर जगह प्रदूषण की वजह से कम पटाखे जलाने की बात हो रही हो, स्वच्छता अभियान को लेकर माहौल बनाया जा रहा हो लेकिन इसका कोई असर नहीं दिख रहा है.

दिल्ली में हवा का बुरा हाल
राजधानी दिल्ली में हर बार की तरह इस बार भी दिवाली की अगली सुबह कुछ खास नहीं रही. रविवार को शुरुआत में तो दिल्ली में कम पटाखे जले, सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट कर इस बात की बधाई दे दी थी. लेकिन 8 बजे के बाद दिल्ली में फिर पटाखों की धूम दिखी, सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना की गई. और अब सोमवार की सुबह दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पीएम 10 और पीएम 2.5 लेवल 950 तक पहुंच गया.

रविवार देर रात के वक्त ITO इलाके में पीएम 10 और पीएम 2.5 का स्तर 900 तक पहुंचा, वहीं सुबह के वक्त यह आंकड़ा 255 स्तर पर भी पहुंचा. 255 भी प्रदूषण के लिहाज से खतरनाक स्थिति है.

लखनऊ वालों ने पटाखे फोड़े, पर कूड़ा नहीं उठाया
लखनऊ में भी दिवाली का त्योहार धूमधाम से मना. लेकिन अगली सुबह की जो तस्वीरें सामने आई वो चेहरे पर खुशी नहीं लाती हैं. लखनऊ नगर निगम के पास ही दिवाली के अगले दिन सड़कों पर कूड़ा फैला हुआ है, हर जगह पटाखों का कूड़ा पड़ा है जो साफ दिखाता है कि रविवार रात को दिवाली तो धूमधाम से मनाई गई लेकिन इस बीच ना प्रदूषण का ख्याल रखा गया और ना ही स्वच्छता अभियान का.

ना सिर्फ लखनऊ, बल्कि दिल्ली, मुरादाबाद समेत कई बड़े शहरों का यही हाल है. जहां पर सड़कों पर पटाखों का कचरा गिरा हुआ है.

निकल गए दिल्ली-NCR वालों के मास्क
दिवाली के अगले दिन हवा थोड़ी ज़हरीली हो रही है और लोग इससे बचने के लिए एक बार फिर मास्क निकाल चुके हैं. दिल्ली हो या फिर गाज़ियाबाद हर जगह सोमवार सुबह बाजार या दफ्तर की तरफ निकलते हुए मास्क लगाते हुए नज़र आए. हालांकि, नॉर्थ इंडिया से इतर मुंबई में दिवाली का अगला दिन इतना खतरनाक नहीं है. यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स गुड की कैटेगिरी में आया है.

बता दें कि दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ओर से लगातार अपील की जा रही थी कि इस बार दिल्ली वाले पटाखे ना जलाएं और वातावरण को प्रदूषित ना करें. हालांकि, इसका असर नहीं दिखा.

ये है वायु प्रदूषण मापने का पैमाना – एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI)
0-50 अच्छा
51-100 संतोषजनक
101-200 मध्यम
201-300 खराब
301-400 बेहद खराब
401-500 खतरनाक
दिल्ली में हवा की क्वालिटी लगातार बिगड़ने का मुख्य कारण हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब के इलाकों में पराली जलाना भी है.

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here