केजरीवाल का विश्वास खो चुके थे, आशीष खेतान व आशुतोष

0

New Delhi/Atulyaloktantra News ◆ आम आदमी पार्टी के टूटने का क्रम अब भी जारी है। कुछ दिन पूर्व आशुतोष और आशीष खेतान ने भी पार्टी से त्यागपत्र दे दिया है। चर्चा यहां तक है कि दोनों पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का विश्वास खत्म हो गया था। इसका आधार उनके बीच किए गए ट्वीट और रिट्वीट को आधार बनाया जा रहा है। इसकी भी चर्चा जोरों पर है कि केजरीवाल ने आशुतोष और आशीष खेतान को नजरअंदाज करना प्रारंभ कर दिया था।

18 जून से 15 अगस्त तक केजरीवाल ने आशुतोष के ट्वीट्स को सिर्फ 2 बार और आशीष खेतान के ट्वीट्स को 3 बार रिट्वीट किया गया। पार्टी के अन्य नेताओं की तुलना में यह ट्वीट बहुत कम है। पार्टी प्रमुख की नजर में इन दोनों नेताओं की अहमियत कम होना माना जा रहा है। पार्टी के नेताओं के अनुसार, पार्टी प्रमुख ने पहले से ही सोशल मीडिया पर उन्हें नजर अंदाज करना प्रारंभ कर दिया था।

पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं में मनमुटाव तब से पैदा हो गया, जब पार्टी ने राज्यसभा सीट के लिए वरिष्ठ नेता संजय सिंह के अलावा बिजनेसमैन सुशील गुप्ता और चार्टेड अकाउंटेंट एनडी गुप्ता को नामांकित कर दिया। उल्लेख है कि आशुतोष केजरीवाल के बेहद करीबी हुआ करते थे और कई विधायकों के अलावा अन्य विद्रोही नेताओं को समझाने-बुझाने के लिए पर्दे के पीछे से आशुतोष ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते थे। 2014 में लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते थे

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here