कर्नाटक संकट: सुप्रीम कोर्ट में मामले पर सुनवाई शुरू, CJI ने फटकारा

नई दिल्ली/अतुल्यलोकतंत्र :कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष रमेश कुमार ने आज 3 और विधायकों को मिलने का समय दिया है। इनमें आनंद सिंह, प्रताप पाटिल और नारायण गौड़ा शामिल हैं। अभी तक कुल 16 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। गुरुवार को कुल 10 विधायकों ने स्पीकर से मुलाकात की थी।कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके 10 बागी विधायकों ने गुरुवार शाम को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद विधानसभा स्पीकर रमेश कुमार से मुलाकात की।

-कर्नाटक विधानसभा के मसले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई प्रारंभ हो गई है। विधायकों की तरफ से पेश हुए मुकुल रोहतगी ने कोर्ट को बताया कि विधानसभा स्पीकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि विधायक सुप्रीम कोर्ट क्यों गए थे, मैं तो यहां था मेरे पास आना था। उन्होंने कहा कि स्पीकर के खिलाफ माननीय न्यायाधीश को एक्शन लेना चाहिए, वो बार-बार कह रहे हैं कि उन्हें इस्तीफा पढ़ना है, लेकिन एक लाइन के इस्तीफे में वह कितनी बार पढ़ेंगे। मुकुल रोहतगी ने कहा कि स्पीकर ने राजनीतिक वजह से हमारा इस्तीफा मंजूर नहीं कर रहे हैं। इस पर टिप्पणी करते हुए मुख्य न्याधीश रंजन गोगोई ने कहा कि क्या विधानसभा स्पीकर सुप्रीम कोर्ट की अथॉरिटी को चैलेंज कर रहे हैं। क्या स्पीकर हमें ये कह रहे हैं कि अदालत को इससे दूर रहना चाहिए।

स्पीकर की तरफ से पेश हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि अभी विधायकों पर सदस्यता खत्म करने का भी मामला चल रहा है, ऐसे में इस्तीफे की बात कहां से आ सकती है। स्पीकर के साथ बैठक में विधायकों ने माना है कि वह रिजॉर्ट गए लेकिन इस्तीफे के लिए स्पीकर से नहीं मिले।

-कांग्रेस और जेडीएस ने अपने सारे विधायकों को व्हिप जारी किया है। इसके तहत विधायकों को विधानसभा में रहने का आदेश दिया है। खास बात ये है कि जो विधायक बागी हो चुके हैं, उन्हें भी व्हिप भेजा गया है, इतना ही नहीं, विधायकों के घर के बाहर व्हिप को चिपकाया गया है।

इस मुलाकात के बाद स्पीकर ने बयान दिया कि कुछ विधायकों का इस्तीफा फॉर्मेट में नहीं था। इसकी रिकॉर्डिंग वे शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सौपेंगे। स्पीकर से मुलाकात करने के बाद सभी बागी विधायक वापस मुंबई पहुंच गए। सुप्रीम कोर्ट में आज एक बार फिर कर्नाटक मसले पर सुनवाई होगी।

Leave a Comment