बुढ़ापे में चाहिए हर महीने पेंशन? मोदी सरकार की इन 4 योजनाओं से जुड़ें

15

New Delhi/Atulya Loktantra : अगर आपको बुढ़ापे की चिंता है तो उसके लिए सरकार की कई योजनाएं हैं, जिसमें आप हर महीने थोड़ी राशि निवेश कर बुढ़ापे में पेंशन पा सकते हैं. इन योजनाओं से देशभर में लाखों लोग जुड़े चुके हैं. दरअसल सरकार की कई गारंटी पेंशन स्कीम्स हैं. जिससे जुड़कर आप 60 की उम्र के बाद एक निश्चित राशि हर महीने पेंशन के तौर पर पा सकते हैं. आज हम आपको ऐसी चार योजनाओं के बारे में बताने जा रहे हैं.

अटल पेंशन योजना
अटल पेंशन योजना (APY) सरकार की सबसे लोकप्रिय पेंशन स्कीम है. अगर आप सरकारी नौकरी में नहीं हैं तो आप इस योजना से जुड़ सकते हैं. केंद्र सरकार की इस योजना में निवेशकों को रिटायरमेंट के बाद 1,000 रुपये से लेकर 5,000 रुपये तक की गारंटीड मंथली पेंशन मिलती है. आप पोस्टऑफिस और बैंक में अटल पेंशन खाता खुलवा सकते हैं.

5000 रुपये पेंशन के लिए हर महीने 210 रुपये करना होगा निवेश
अटल पेंशन योजना में 18 से 40 साल के लोग ही अप्लाई कर सकते हैं, यानी जिनकी उम्र 40 साल से ज्यादा है वो इस योजना से नहीं जुड़ सकते हैं. अगर 18 साल का युवा अटल पेंशन योजना से जुड़ता है तो उसे 5000 रुपये पेंशन के लिए हर महीने 210 रुपये निवेश करना होगा. अगर निवेशक की उम्र 20 साल है उसे 60 की उम्र के बाद 1000 रुपये मासिक पेंशन चाहिए तो इसके लिए उसे 40 साल तक 50 रुपये का मासिक निवेश करना होगा. उम्र बढ़ने के साथ स्‍कीम की शुरुआत करने वाले खाताधारकों को निवेश की राशि अधिक देनी पड़ती है.

PM किसान मानधन योजना
केंद्र सरकार ने किसानों के लिए पेंशन योजना के तौर पर किसान मानधन योजना शुरू की है. इस योजना में रजिस्ट्रेशन करवाने वाले किसानों को 60 की उम्र के बाद कम से कम 3000 रुपये पेंशन दी जाती है. ‘किसान मानधन योजना’ से अगर कोई 18 साल की उम्र से जुड़ते हैं तो उन्हें हर महीने 55 रुपये जमा करना होगा. जबकि 30 साल वाले को हर महीने 110 रुपये और अगर उम्र 40 साल है तो फिर हर महीने 200 रुपये भरना होगा. इस स्कीम में वही किसान आवेदन कर सकते हैं, जिनके पास अधिकतम 2 हेक्टेयर तक ही खेती योग्य जमीन हो.

कैसे खुलवाएं किसान मानधन योजना में खाता
पीएम किसान मानधन योजना का लाभ उठाने के लिए किसान को कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. रजिस्ट्रेशन के लिए आधार कार्ड और खसरा-खतौनी की नकल ले जानी होगी. स्कीम में आवेदक किसान को 55 रुपये से 200 रुपये के बीच हर महीने 60 साल की उम्र तक योगदान करना होता है. इस पेंशन कोष का प्रबंधन भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) करती है. पीएम किसान मानधन में जितना किसान प्रीमियम देंगे, उतना सरकार भी किसान के अकाउंट में जमा करती है.

PM श्रम योगी मानधन योजना
असंगठित क्षेत्र में काम करने वालों के लिए केंद्र सरकार की ‘प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना’ है. बुढ़ापे में आर्थिक सुरक्षा देने के लिए यह योजना शुरू की गई है. इस योजना से जुड़े लोगों को 60 साल की उम्र के बाद मंथली 3000 रुपये पेंशन मिलती है. इस योजना से कोई भी भारतीय नागरिक जुड़ सकता है, जिसकी उम्र 18 साल से 40 साल के बीच हो. इस योजना से जुड़ने के लिए मासिक आमदनी 15,000 रुपये से ज्यादा नहीं हो.

कौन बन सकता है स्कीम का हिस्सा?
यह योजना खासकर मेड, मोची, दर्जी, रिक्शा चालक, धोबी और मजूदर के लिए शुरू की गई है. अगर निवेशक की उम्र 18 साल है तो उसे इस योजना में हर महीने 55 रुपये, 30 साल वाले को हर महीने 110 रुपये और 40 साल वाले हर महीने 200 रुपये जमा करने होंगे. अगर पेंशन मिलने से पहले ही लाभार्थी की मृत्यु होती है तो पेंशन का 50 फीसदी हिस्सा उसके जीवनसाथी को रूप में दिया जाएगा.

PM लघु व्‍यापारी मानधन योजना
छोटे कारोबारियों के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री लघु व्‍यापारी मानधन योजना शुरू की है. इस योजना में भी 60 साल की उम्र पूरी होने के बाद 3000 रुपये मासिक पेंशन दी जाती है. अगर कोई 18 साल की उम्र में स्कीम से जुड़ेगा तो उसे 55 रुपये प्रति माह जमा करना होगा. इसी तरह 30 साल की उम्र वाले को 110 रुपये और 40 साल वाले 200 रुपये देने होंगे. यह रकम 60 साल की उम्र तक जमा करनी होगी. जितना प्रीमियम जमा किया जाएगा, उतनी ही राशि सरकार भी सदस्‍य के नाम से जमा कराएगी.

आज ही सेवा केन्द्रों पर करवाएं अपना पंजीकरण
पीएम नरेंद्र मोदी ने सितंबर, 2019 को इस योजना की शुरुआत की है. यह मुख्‍य रूप से छोटे कारोबारियों के लिए एक पेंशन योजना है. अगर आप इस योजना में शामिल होना चाहते हैं तो फिर देशभर में फैले 3.25 लाख साझा सेवा केन्द्रों पर पंजीकरण करा सकते हैं. आयकर देने वाले व्यापारियों को इसका लाभ नहीं मिलेगा. 40 साल से अधिक उम्र के कारोबारी भाग नहीं ले सकते.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here