Saturday, January 28, 2023
HomeLatest Hindi Newsयूपी : योगी सरकार सख्त, गोवध में हुईं NSA की आधी से...

यूपी : योगी सरकार सख्त, गोवध में हुईं NSA की आधी से अधिक गिरफ्तारियां

New Delhi/Atulya Loktantra: उत्तर प्रदेश (यूपी) में कई लोगों के खिलाफ गोवध के आरोप में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए, रासुका) लगाए गए हैं. हालिया घटना 6 सितंबर की है जिसमें बहराइच के एक शख्स के खिलाफ गोवध में एनएसए लगाया गया. यूपी सरकार ने गोवध के खिलाफ कड़े कानून बनाए हैं जिसमें एनएसए के तहत कार्रवाई हो रही है. एनएसए के आधे से ज्यादा केस कथित तौर पर गोवध से जुड़े हैं.

प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी के मुताबिक, इस साल 19 अगस्त तक यूपी में पुलिस ने 139 लोगों के खिलाफ एनएसए लगाया है जिनमें 76 गोवध से जुड़े हैं. 31 अगस्त तक अकेले बरेली जोन में इस मामले में 44 मामले दर्ज किए गए. इससे विपरीत पुलिस ने महिला और बच्चों के खिलाफ अपराध में 6 लोगों पर केस दर्ज किया. साल 2020 में अब तक 37 लोगों के खिलाफ जघन्य अपराध और 20 के खिलाफ अन्य आरोपों में एनएसए लगाया गया है. एनएसए के तहत 13 गिरफ्तारियां की गई हैं जो इस साल नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन से जुड़े हैं. ‘इंडियन एक्सप्रेस’ ने इसकी जानकारी दी.

एनएसएस के तहत बिना किसी आरोप के किसी व्यक्ति को 12 महीने तक हिरासत में रखा जा सकता है. ऐसा तब होता है जब प्रशासन को लगता है कि उक्त व्यक्ति राष्ट्रीय सुरक्षा या कानून-व्यवस्था के खिलाफ खतरा पैदा कर सकता है. अवस्थी ने एक बयान में कहा, यूपी के मुख्यमंत्री ने साफ शब्दों में कहा है कि जो लोग शांति और कानून-व्यवस्था के खिलाफ अपराधों को अंजाम देते हैं उनके खिलाफ एनएसए लगाया जा सकता है. मुख्यमंत्री का यह निर्देश इसलिए है ताकि अपराधियों में कानून का भय रहे और आम लोगों में सुरक्षा की भावना प्रबल हो.

एनएसए के अलावा इस साल 26 अगस्त तक उत्तर प्रदेश प्रिवेंशन ऑफ काऊ स्लॉटर एक्ट के तहत 1716 मामले दर्ज किए गए हैं और 4 हजार से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारियां हुई हैं. हालांकि इसी मामले में 32 लोगों के खिलाफ क्लोजर रिपोर्ट भी दाखिल की गई है क्योंकि पुलिस आरोपियों के खिलाफ साक्ष्य नहीं जुटा सकी. इसके अलावा पुलिस ने यूपी गैंगस्टर एक्ट में 2384 लोगों और गुंडा एक्ट में 1742 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है. बीते रविवार को एनएसए के तहत गोरखपुर पुलिस जोन में दो गिरफ्तारियां हुईं. इसी जोन के तहत बहराइच भी आता है.

Deepak Sharma
Deepak Sharma
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments