निकिता हत्याकांड: क्राइम ब्रांच करेगी निकिता हत्याकांड की जांच, एसआईटी भी हुई गठित

5
File Photo

Faridabad/Atulya Loktantra: निकिता हत्याकांड में पुलिस ने मुख्य आरोपी सहित दो को गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार को दोनों को अदालत में पेश कर दो दिन की रिमांड पर लिया है। आरोपियों को फांसी की सजा की मांग को लेकर मृतका के परिजनों ने नेशनल हाईवे सहित अलग-अलग तीन जगह रोड जाम किया। प्रशासन से आरोपियों को सख्त सजा दिलवाने का अश्वासन के बाद देर शाम परिजनों ने हाईवे से जाम खोला और उसके बाद शव का दाह संस्कार किया गया। इस बीच मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित की गई है।

मुख्य अभियुक्त की पहचान तौसिफ निवासी सोहना, जिला गुरुग्राम तथा दूसरे आरोपी रेहान निवासी रीवासन जिला नूंह के रूप में हुई है। पुलिस कमिश्नर ओ.पी. सिंह ने बताया कि इस मामले में एसआईटी टीम भी गठित की गई है। क्राइम एसीपी अनिल कुमार के नेतृत्व में गठित यह टीम पूरे मामले की जांच करेगी। परिजनों की मांग पर इस पूरे मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है। आरोपी के खिलाफ इलेक्ट्रॉनिक्स एवं अन्य कई तरह के गुप्त साक्ष्य पुलिस के पास हैं। उनके आधार पर कोर्ट में अच्छी पैरवी कर आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी।

तौसिफ निकिता को बनाना चाहता था मुस्लिम
गौरतलब है कि सोमवार शाम बल्लभगढ़ थाना क्षेत्र में बीकॉम फाइनल ईयर की छात्रा निकिता तोमर की उस समय गोली मारकर हत्या कर दी थी, जब वह अग्रवाल कॉलेज से परीक्षा देने के बाद अपनी सहेली के साथ अपने घर लौट रही थी। इसी बीच कॉलेज के ठीक पास में कार में सवार होकर आए युवकों ने निकिता को जबरन कार में खींचने का प्रयास किया। असफल रहने पर गोली मार दी थी।

धर्म परिवर्तन नहीं करने पर हत्या का लगाया आरोप
मृतका का पिता ने मीडिया को दिए बयान में आरोप लगाया है कि आरोपी एक विशेष समुदाय से संबंध रखता है। काफी समय से उनकी बेटी पर धर्म परिवर्तन करके शादी करने का दबाव बना रहा था। जब उनकी बेटी ने धर्म बदलने से मना कर दिया तो आरोपी ने उनकी बेटी की गोली मारकर हत्या कर दी। वहीं पुलिस में दर्ज मामले में हत्या का कारण रंजिश बताया गया है। मृतका के भाई की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

मंत्री मूलचंद शर्मा और एडीसी सतबीर मान मौके पर पहुंचे
प्रदर्शनकारी हत्यारों को फांसी समेत सख्त सजा दिए जाने की मांग करते रहे। सोहना रोड, बीके चौक व नेशनल हाईवे समेत सड़कों पर हंगामा रहा। दिनभर यातायात व्यवस्था चरमाए रही। गुस्साए परिजनों ने शव लेने से इंकार कर दिया। 24 घंटे बाद तक भी शव का अंतिम संस्कार नहीं हो सका। मंत्री मूलचंद शर्मा भी मौके पर पहुंचे। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के समझाने पर ही परिजन शव लेने पर राजी हुए और शाम 6 बजे भारी पुलिस बल की मौजूदगी में निकिता का शव पोस्टमार्टम होने के बाद अंतिम संस्कार के लिए रवाना किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here