हरियाणा: 12.83 करोड़ के टोल का नुकसान, किसान बोले-मांगें पूरी होने तक रोकेंगे वसूली

0
File Photo

Chandigarh/Atulya Loktantra: तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों ने लगातार तीसरे दिन हरियाणा में टोल वसूली नहीं होने दी । जिससे तीन दिन में टोल प्लाजा को करीब 12.83 करोड़ का नुकसान हो चुका है। सबसे ज्यादा 3 करोड़ का नुकसान केएमपी-केजीपी के टोल पर और 2 करोड़ का नुकसान करनाल के बसताड़ा टोल को हुआ है। किसान नेता ने ऐलान किया है कि जब तक किसानों की मांगें सरकार मान नहीं लेती, तब तक हरियाणा में किसी भी टोल प्लाजा पर वसूली नहीं होने देंगे। अब किसानों ने टोल प्लाजा के पास टेंट लगाने शुरू कर दिए हैं। वहीं, पीएम मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के दौरान किसानों ने आंदोलन स्थलों और टोल प्लाजा पर थाली व ताली बजाकर विरोध जताया।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि ये बस सरकार के लिए संकेत हैं कि वह जल्द सुधर जाए। 29 दिसंबर को हम सरकार के साथ मुलाकात करेंगे। इस बीच, आंदोलन में शामिल सीनियर एडवोकेट अमरजीत सिंह राय ने आत्महत्या कर ली। वे पंजाब के फाजिल्का जिले के जलालाबाद के थे।
उन्हाेंने टिकरी बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शनस्थल से 5 किलोमीटर दूर जाकर जहर खा लिया। उनके पास से सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें उन्होंने पीएम मोदी को तानाशाह बताया है। वे आंदोलन में सुसाइड करने वाले दूसरे किसान हैं। अमरजीत सिंह का एक बेटा और एक बेटी है। आपको बता दे कि अब तक आंदोलन में 26 किसानों की जान जा चुकी है।

काले कानूनों से ठगा महसूस कर रहे
प्रधानमंत्री के रूप में आम लोगों ने अपनी स्वतंत्रता को बचाने व समृद्ध करने के लिए आपसे उम्मीद की। लेकिन बड़े दुःख और पीड़ा के साथ कहना पड़ रहा है कि आप अंबानी और अडानी जैसे विशेष समूह के प्रधानमंत्री बन गए हैं। किसान और मजदूर जैसे आम लोग आपके तीन काले कृषि बिलों से खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। लोग आजीविका बचाने के लिए सड़कों पर हैं।

केजरीवाल बोले- किसानों को राष्ट्रद्रोही कहा जा रहा
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल रविवार शाम कुंडली बॉर्डर पर बने गुरु तेग बहादुर मेमोरियल में शहीदी दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित होने वाले कीर्तन पाठ में हिस्सा लेने पहुंचे। केजरीवाल ने कहा कि कड़ाके की ठंड में किसान भाई, माताएं, बच्चे 32 दिनों से खुले आसमान के नीचे सोने को मजबूर हैं। जैसे अन्ना आंदोलन में हमें बदनाम करते थे, वैसे ही आज किसान को राष्ट्रदोही कहा जा रहा है।

कोई मां का लाल किसानों की जमीन नहीं छीन सकता
रक्षा मंत्री ने कहा कि दुष्प्रचार किया जा रहा है कि कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के जरिए किसानों की जमीन छीन ली जाएगी। कोई मां का लाल किसानों की जमीन नहीं छीन सकता। किसानों से करार फसल का होगा, जमीन का नहीं। इसके बावजूद किसान उपज जहां चाहें बेचने के लिए आजाद होंगे। एमएसपी खत्म करने का इस सरकार का न कभी इरादा था, न है और न रहेगा। मंडी व्यवस्था भी कायम रहेगी। -राजनाथ सिंह,

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here