हरियाणा पुलिस ने वाट्सएप यूजर्स के लिए जारी की एडवाइजरी, किसी वेरिफिकेशन कोड वाले मैसेज का जवाब न दें

0

Chandigarh/Atulya Loktantra : हरियाणा पुलिस ने वाट्सएप यूज़र्स को एडवाइजरी जारी की है। उन्हें वाट्सएप अकाउंट हैक करने के लिए जालसाजों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले साइबर क्राइम के एक नए चलन के बारे में सचेत किया है। वित्तीय धोखाधड़ी से बचने के लिए यूजर्स उनके फोन पर आए किसी भी वेरिफिकेशन कोड वाले मैसेज का जवाब न देंं। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक नवदीप सिंह विर्क ने बताया कि कोविड-19 की स्थिति के बाद काफी संख्या में आनॅलाइन गतिविधियों का चलन बढ़ने से साइबर अपराधी लोगों और संगठनों को ठगने के लिए नए तरीकों का सहारा ले रहे हैं।

जानिए… ऐसे होती है ठगी
साइबर क्राइम में जालसाज भोले-भाले लोगों के वाट्सएप अकाउंट को हैक कर लेते हैं और इसका इस्तेमाल उनके दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ वित्तीय धोखाधड़ी करने के लिए करते हैं। पहले हैकर एक फर्जी खाता बनाकर वाट्सएप तकनीकी टीम को प्रदर्शित करते हुए ऑफिशियल वाट्सएप लोगों को डिस्प्ले पिक्चर के रूप में लगाते हैं। उसके बाद टारगेट को मैसेज भेजकर अपनी पहचान सत्यापित करने के लिए 6 अंकों का वेरिफिकेशन कोड साझा करने को कहते हैं।

वाट्सएप तकनीकी टीम से प्रतीत होता मैसेज आने पर पीड़ित झांसे में आकर वेरिफिकेशन पिन शेयर करता है। लॉगइन के बाद अकाउंट हैकर की कंट्रोल में आ जाता है और वह किसी को मैसेज भी भेज सकता है। हैकर्स दोस्तों और परिवार के लोगों से धोखाधड़ी वाले संदेश भेज कर पैसे, पिन, ओटीपी आदि की मांग करता है।

यह रखें सावधानी
यूज़र्स वे वेरिफिकेशन कोड को किसी के साथ शेयर न करें। उन्होंने सोशल मीडिया अकांउटस के लिए टू स्टेप वेरिफिकेशन अपनाने का भी सुझाव दिया।
इससे उनके आकंउटस सेफ होंगे भले ही हैकर्स की वेरिफिकेशन कोड तक पहुंच हो, क्योंकि अकांउट में सफलतापूर्वक लॉग इन करने के लिए एक पासवर्ड की आवश्यकता होगी। साथ ही पिन या ओटीपी मांगने वाले मैसेजों पर कभी प्रतिक्रिया न करें क्योंकि सोशल मीडिया ऐपलीकेशन कभी भी ऐसी जानकारी के लिए कॉल या मैसेज नहीं करता है। यूजर्स यदि किसी के साथ छह अंकों का वेरिफिकेशन पिन साझा करते हैं, तो अपने वाट्सएप अकांउट को तुरंत रि-वेरिफाई करें।

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here