शिंदे गुट की बढ़ी मुश्किलें, विधानसभा उपाध्यक्ष ने 16 बागी विधायकों को भेजा नोटिस

महाराष्ट्र में राजनीतिक उठापटक लगातार जारी है। इन सबके बीच अब डिप्टी स्पीकर की भी सक्रियता बढ़ गई है। महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर की ओर से 16 बागी विधायकों को नोटिस भेजा गया है। उन्हें 27 जून की शाम 5:30 बजे तक जवाब देने के लिए भी कहा गया है। सवाल यही है कि क्या यह बागी विधायक उस वक्त तक हाजिर हो पाएंगे या नहीं? क्या बागी विधायक अब कानून की ओर रुख करेंगे। शिवसेना पार्टी के व्हीप सुनील प्रभु ने सभी 16 बागी विधायकों को अयोग्य घोषित करने के लिए नोटिस जारी कर दिया है। इससे पहले शिवसेना की ओर से 16 विधायकों के नाम डिप्टी स्पीकर को दिए गए थे और उनसे इन्हें अयोग्य घोषित करने की मांग की गई थी

कानूनी प्रक्रिया के तहत कार्रवाई होगी

नोटिस में यह भी कह दिया गया है कि अगर विधायकों की ओर से कोई जवाब नहीं आता है तो यह मान लिया जाएगा कि उनके पास कहने के लिए कुछ नहीं है और कानूनी प्रक्रिया के तहत कार्रवाई होगी। इसमें कहा गया हा कि जिन 16 विधायकों को अयोग्यता नोटिस जारी किया गया है, उन्हें सोमवार, 27 जून तक अपना लिखित जवाब दाखिल करना है। वहीं, शिवसेना की ओर से पहले 12 विधायकों को अयोग्य घोषित करने की मांग की गई थी। हालांकि बाद में इसे बढ़ाकर 16 कर दिया गया। इससे पहले शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने कहा था कि पार्टी बागी धड़े के 16 विधायकों को भी नोटिस जारी करेगी और उनसे सोमवार तक जवाब देने को कहेगी।

विधानसभा उपाध्यक्ष का बयान महाराष्ट्र

विधानसभा के उपाध्यक्ष नरहरि जिरवाल ने कहा था कि उन्होंने बागी विधायक एकनाथ शिंदे की जगह अजय चौधरी को सदन में शिवसेना का विधायक दल का नेता नियुक्त किये जाने को मंजूरी दे दी है। शिवसेना ने पार्टी से विद्रोह करने और पार्टी के कुछ विधायकों के साथ गुजरात के सूरत चले जाने के कुछ घंटे बाद मंगलवार को शिंदे को विधायक दल के नेता के पद से हटा दिया था। शिंदे के कदम से महाराष्ट्र की महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार पर खतरा मंडराने लगा, जिसमें शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस शामिल हैं। जिरवाल ने कहा कि मुझे शिवसेना की ओर से एक पत्र मिला है, जिसमें सूचित किया गया है कि उसने अजय चौधरी को विधानसभा में विधायक दल का नेता नियुक्त किया है और शिंदे को तत्काल प्रभाव से पद से हटा दिया है। उन्होंने कहा, मैंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा भेजा गया वह पत्र स्वीकार कर लिया है।

Leave a Comment