स्वच्छ सर्वेक्षण 2021: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के सबसे स्वच्छ शहरों को किया सम्मानित, इंदौर लगातार 5वीं बार शीर्ष पर

Swachh Survekshan 2021: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (rashtrapati rajnath singh) ने शनिवार को देश के 342 शहरों को ‘स्वच्छ सर्वेक्षण 2021’ (Swachh Bharat Mission 2021) के तहत सम्मानित किया। शहरों की स्वच्छता के आंकलन के लिए कई विभिन्न पैमानों का निर्धारण किया गया था। स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार 2021 (swachh bharat mission puraskar) के अंतर्गत शहरों को सम्मानित करने के लिए ‘स्वच्छ अमृत महोत्सव’ (swachh amrit mahotsav) कार्यक्रम का आयोजन केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय राजधानी के विज्ञान भवन में हुआ।

संबंधित मंत्रालय ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 (swachh Amrit Mahotsav) के बारे में विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराते हुए कहा कि-“2016 में देश के 73 प्रमुख शहरों ने इस सर्वेक्षण भाग लिया था वहीं इस वर्ष 2021 में स्वच्छ सर्वेक्षण में भागीदार करने वाले शहरों की संख्या 4,320 पहुंच गई है। इस वर्ष स्वच्छ सर्वेक्षण के छठे संस्करण का आयोजन हो रहा है, जो कि वर्तमान में विश्व का सबसे बड़ा शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण कार्यक्रम बन कर उभरा है।”

इंदौर को देश के सबसे स्वच्छ शहर के पुरस्कार से नवाजा गया

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) राज्य स्तिथ इंदौर शहर (Indore) को लगातार 5वीं बार के सबसे स्वच्छ शहर होने के चलते “स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार 2021” से नवाजा गया है। इसके अतिरिक्त गुजरात राज्य स्तिथ सूरत शहर को देश के दूसरे और आंध्र प्रदेश राज्य स्तिथ विजयवाड़ा शहर को देश के तीसरे सबसे स्वच्छ शहर के पुरस्कार से नवाजा गया है।

छत्तीसगढ़ राज्य को लगातार तीसरी बार देश के सबसे स्वच्छ राज्य के पुरस्कार से नवाजा गया।

काशी विश्वनाथ की नगरी वाराणसी को देश के सबसे स्वच्छ गंगा नदी शहर के रूप में नवाजा गया।

अहमदाबाद छावनी (cantonment) को देश की सबसे स्वच्छ छावनी के पुरस्कार से नवाजा गया।

देश के 1 लाख से कम की आबादी वाले शहरों में वीटा (Vita), लोनावला (Lonavala) और ससवाद (Saswad) को चिन्हित किया गया जो कि तीनों शहर महाराष्ट्र राज्य के अंतर्गत आते हैं। स्वच्छ अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार 2021 के आयोजन के मौके पर देश की राजधानी स्तिथ विज्ञान भवन में केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पूरी, राज्य मंत्री कौशल किशोर, मुख्यमंत्रियों, राज्य सरकार के शहरी विकास मंत्रियों, राजनयिकों, राज्य और शहर के वरिष्ठ अधिकारियों, ब्रांड एंबेसडर, गैर सरकारी संगठनों सहित भारी तादात में लोग इस कार्यक्रम का हिस्सा बने हुए हैं।

स्वच्छ भारत अभियान के स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 का परिणाम घोषित हो गया है। इस सर्वेक्षण में नोएडा प्राधिकरण की रैंकिंग में जबरदस्त उछाल आया है, देश में क्लीनेस्त मीडियम सिटी में पहला स्थान हासिल किया गया है। इससे नोएडा ने प्रदेश में पहला स्थान बरकरार रखा है, लेकिन देश के अन्य शहरों को प्रतिस्पर्घा में बहुत पीछे छोड़ दिया है। दस लाख की आबादी वाले शहरों में यह सर्वेक्षण किया गया था। नोएडा के 5.30 लाख से अधिक लोगों ने सर्वेक्षण में हिस्सा लिया था। प्रतियोगिता में देश के 4320 शहरों शामिल रहे, दस लाख की आबादी वाले शहरों में नोएडा को चौथी रैंक हासिल हुई है। बता दें कि पिछले मुकाबलों में नोएडा ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। वर्ष 2020 में नाेएडा को 25 वां स्थान मिला था, जबकि 2019 में 150 वां स्थान रहा। वर्ष 2018 में नोएडा स्वच्छ सर्वेक्षण में 324 वां स्थान पर काबिज हो सका था, लेकिन नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों और कर्मचारियों के लगातार अथक प्रयास से रैकिंग में सुधार हो रहा है।

Leave a Comment