भाजपा के खिलाफ राहुल का हिंदू कार्ड, कांग्रेस के खिसकते जनाधार को पाने के लिए नया दांव

Congress Hindu Card: कश्मीर दौरे के एक महीने बाद जम्मू के दो दिवसीय दौरे (Rahul Gandhi Jammu Visit) पर पहुंचे राहुल गांधी (Rahul Gandhi) बिल्कुल अलग अंदाज में दिखे। अपने दो दिवसीय दौरे की शुरुआत उन्होंने माता वैष्णो देवी के दरबार (Vaishno Devi Temple) से की। वह लंबी चढ़ाई पर पैदल चलकर ही माता के दरबार में पहुंचे।

दौरे (Rahul Gandhi Jammu Daura) के दूसरे दिन कांग्रेस कार्यकर्ताओं (Congress Workers) के सम्मेलन में उन्होंने भाजपा (BJP) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) पर बड़ा हमला बोला। उन्होंने जय माता दी (Jai Mata Di) के नारों के साथ अपने भाषण की शुरुआत करके जम्मू दौरे (Jammu Daura) का एजेंडा पूरी तरह साफ कर दिया। जम्मू में राहुल हिंदू कार्ड (Rahul Hindu Card) खेल कर कांग्रेस की खिसक चुकी जमीन को पाने की कोशिश करते हुए दिखे।

जम्मू-कश्मीर में 2008 के बाद से ही कांग्रेस (Congress) का जनाधार लगातार खिसकता जा रहा है। खास तौर पर जम्मू इलाके में भाजपा (BJP) अब काफी मजबूत हो चुकी है। माना जा रहा है कि राहुल गांधी ने भाजपा को जवाब देने के लिए हिंदू कार्ड (Hindu Card) खेलने की कोशिश की है। माता वैष्णो देवी की पैदल यात्रा (Paidal Yatra) को भी राहुल गांधी की इसी मुहिम का हिस्सा माना जा रहा है।

उन्होंने जम्मू-कश्मीर के साथ अपने पूर्वजों के नजदीकी रिश्ते का हवाला देते हुए भी लोगों का समर्थन और सहानुभूति बटोरने की कोशिश की। उन्होंने खुद को कश्मीरी पंडित बताते हुए भी घाटी के साथ अपने रिश्तों को जोड़ने की कोशिश के साथ ही कांग्रेस की चुनावी संभावनाओं को मजबूत बनाने का प्रयास किया।

लगातार कमजोर होती जा रही है कांग्रेस

दरअसल, जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस भाजपा के मुकाबले लगातार कमजोर पड़ती जा रही है। जानकारों का मानना है कि इसी कारण अब कांग्रेस अपनी रणनीति पर नए सिरे से विचार करने पर मजबूर हुई है। 2008 के विधानसभा चुनाव (Assembly Election) में कांग्रेस ने यहां से 17 सीटों पर जीत हासिल की थी मगर 2014 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की 5 सीटें और घट गईं। वह 12 सीटों पर सिमट गई। विधानसभा के साथ ही लोकसभा चुनावों (Lok Sabha Election) में भी कांग्रेस का प्रदर्शन (Congress Ka Pradarshan) काफी निराशाजनक रहा। 2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों में कांग्रेस यहां से एक भी सीट नहीं जीत सकी।

Leave a Comment