राजकोषीय घाटे से निजी निवेश बाधित होगा – RBI

    0

    मुंबई/अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ : RBI के गवर्नर उर्जित पटेल ने शुक्रवार को कहा कि राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को बनाए रखना जरूरी है, क्योंकि किसी प्रकार की फिसलन से महंगाई पर असर होगा और निजी क्षेत्र के लिए निवेश की गुंजाइश कम पड़ जाएगी। साथ ही, बाजार में अस्थिरता बढ़ जाएगी।

    Private investment will be disrupted by fiscal deficit - RBI
    Private investment will be disrupted by fiscal deficit – RBI

    मौद्रिक नीति समीक्षा की घोषणा करते हुए पटेल ने कहा, “राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को बनाए रखना महज किसी एक कारण के लिए जरूरी नहीं है, बल्कि यह आगे निजी क्षेत्र के लिए निवेश की गुंजाइश कम होने का खतरा कम करने के लिए आवश्यक है क्योंकि केंद्र और सरकार की उधारी को मिलाकर बड़ी रकम हो जाती है।”

    पटेल ने एक सवाल के जवाब में राजकोषीय घाटे को लेकर अपनी चिंता जाहिर की। उनसे पूछा गया था कि सरकार द्वारा गुरुवार को तेल पर उत्पाद कर में की गई कटौती जैसे लोकलुभावन कदमों से वित्तीय स्थायित्व, चालू खाते का घाटा और महंगाई पर क्या असर होगा।

    कें द्रीय बैंक ने एक बयान में कहा, “वित्तीय फिसलन चाहे केंद्र सरकार या राज्य सरकार के स्तर पर हो, उससे महंगाई की संभावना पर असर होगा, बाजार में अस्थिरता बढ़ेगी और निजी क्षेत्र के लिए निवेश की गुंजाइश कम होगी।

    अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

    Please enter your comment!
    Please enter your name here