PM को माफीवीर बनना होगा, अग्निपथ योजना वापस लेनी पड़ेगी : राहुल गांधी

केंद्र सरकार द्वारा सेना में भर्ती के लिए लाए गए अग्निपथ योजना को लेकर बवाल लगातार जारी है। वहीं, अग्निपथ योजना का विरोध विपक्ष में लगातार कर रहा है। यही कारण है कि विपक्ष की ओर से लगातार केंद्र सरकार पर सवाल उठाए जा रहे हैं। इन सबके बीच राहुल गांधी ने एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने साफ तौर पर कहा है कि प्रधानमंत्री को माफीवीर बनना होगा, अग्निपथ योजना वापस लेनी ही पड़ेगी। इसको लेकर राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि आठ वर्षों से भाजपा सरकार ने ‘जय जवान, जय किसान के मूल्यों का लगातार अपमान किया है। मैंने पहले भी कहा था कि प्रधानमंत्री जी को काले कृषि कानून वापस लेने पड़ेंगे। ठीक उसी तरह उन्हें ‘माफीवीर’ बनकर देश के युवाओं की बात माननी पड़ेगी और ‘अग्निपथ’ को वापस लेना ही पड़ेगा।

इससे पहले राहुल गांधी ने कहा था कि अग्निपथ – नौजवानों ने नकारा , कृषि कानून – किसानों ने नकारा, नोटबंदी – अर्थशास्त्रियों ने नकारा, GST – व्यापारियों ने नकारा, देश की जनता क्या चाहती है, ये बात प्रधानमंत्री नहीं समझते क्यूंकि उन्हें अपने ‘मित्रों’ की आवाज़ के अलावा कुछ सुनाई नहीं देता। वहीं, सरकार ने मंगलवार को इस योजना की शुरुआत करते हुए कहा था कि साढ़े 17 से 21 साल तक की उम्र के युवाओं को संविदा के आधार पर चार साल के कार्यकाल के लिए थल सेना, वायुसेना और नौसेना में भर्ती किया जाएगा। सरकार ने कहा था कि रक्षा जरूरतों के आधार पर 25 प्रतिशत जवानों को नियमित सेवा के लिए बरकरार रखा जाएगा।

‘अग्निपथ’ योजना को लेकर बढ़ते विरोध के मद्देनजर भर्ती के लिए ऊपरी आयु सीमा बृहस्पतिवार को बढ़ाकर 23 साल कर दी गई थी। नयी भर्ती योजना को सरकार ने तीनों सेनाओं में युवाओं की संख्या बढ़ाने के लिए दशकों पुरानी चयन प्रक्रिया में एक बड़े बदलाव के रूप में पेश किया है। दूसरी ओर दिन बिहार के कई हिस्सों में लगातार चौथे दिन भी अग्निपथ योजना के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन जारी रहा। प्रदर्शनकारियों ने शनिवार को जहानाबाद जिले में तेहटा पुलिस चौकी परिसर के अंदर खड़े एक ट्रक और एक बस समेत कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया।

Leave a Comment