सुप्रीम कोर्ट में हॉकी को राष्ट्रीय खेल घोषित करने की याचिका रद्द, कोर्ट ने कहा- सरकार को सौपें ज्ञापन

    0
    3

    Supreme Court ki Sunwai: टोक्यो ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम के शानदार प्रदर्शन को देखते हुए हॉकी खेल को आधिकारिक तौर पर राष्ट्रीय खेल (Hockey Rashtriya Khel) घोषित करने का मांग की जा रही है। इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सुनवाई करने से इंकार कर दिया है। दायर की गई याचिका पर कोर्ट ने वकील से कहा है कि, “यह मांग अच्छा हो सकता है लेकिन हम मामले में कुछ नहीं कर सकते है। अगर आप चाहे तो इस मामले का ज्ञापन सरकार को सौंप सकते हैं।”

    जापान में खेले गए ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian Women Hockey Team) और पुरुषों की हॉकी टीम (Indian Men Hockey Team) ने जबदर्स्त प्रदर्शन किया था। उनके शानदार प्रदर्शन की प्रशंसा पूरे देश ने की थी। उनके इस लगन और मेहनत को देखते हुए हॉकी को आधिकारिक रूप से में राष्ट्रीय खेल घोषित करने की मांग होने लगी और इसके लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई। इस याचिका को लेकर कोर्ट ने आज सुनवाई करने से मना कर दिया है।

    50% for Advertising
    Ads Advertising with us AL News

    किसने की थी हॉकी को राष्ट्रीय खेल घोषित करने की मांग

    विशाल तिवारी (Vishal Tiwari) नाम के वकील ने हॉकी को राष्ट्रीय खेल घोषित करने की मांग की और उन्होंने ही कोर्ट में याचिका दायर की थी। उन्होंने मांग करते हुए कहा था कि, “हॉकी को राष्ट्रीय खेल घोषित किया जाए और एथेलेटिक्स जैसे तमाम खेलों की व्यवस्थाओं में दुरुस्त की जाए और सुविधाएं बढ़ाई जाएं। हालांकि हॉकी को राष्ट्रीय खेल माना तो जाता ही है, लेकिन उसे अब तक आधिकारिक रूप से घोषित नहीं किया गया है। ऐसे में हॉकी अपनी असली पहचान खोता जा रहा है।”

    हॉकी को राष्ट्रीय खेल कब घोषित किया गया (Hockey Ko Rashtriya Khel Kab ghoshit Kiya Gaya)?

    साल 1928 से लेकर 1956 तक को भारतीय हॉकी का स्वर्णिय युग कहा जाता है। इस दौरान भारत ने छह ओलंपिक में लगातार गोल्ड जीता था। इस खेल की बढ़ती लोकप्रियता ने साल 1928 तक इसे भारत का राष्ट्रीय खेल बना दिया। हालांकि अब तक इसे सरकार की ओर आधिकारिक रूप से मान्यता नहीं दी गई है। 1928 में ही भारतीय हॉकी टीम एमस्टर्डम ओलंपिक में हिस्सा लिया और बिना गोल दिए स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

    50% for Advertising
    Ads Advertising with us AL News
    Previous newsमहबूबा मुफ्ती ने केंद्र पर लगाया नजरबंद करने का आरोप, बोलीं- Jammu Kashmir में सामान्य स्थिति होने के दावों की खुली पोल
    Next newsनए नए तरह से परेशान कर रहा कोरोना वायरस, लक्षणों की लंबी हो रही सूची
    इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here