जम्मू कश्मीर में 50% क्षमता के साथ 12वीं कक्षा को फिर से खोलने की इजाजत

    0
    0

    श्रीनगर: देश में कोरोनावायरस के संक्रमण का खतरा अभी भी बना हुआ। संक्रमण के मामलों में उतार चढ़ाव का दौर जारी है। कुछ राज्य कोरोना से मुक्ति के ओर हैं, तो कुछ राज्यों में मामले बढ़ते हुए भी देखे जा रहे हैं। जिन राज्यों में संक्रमण के मामले कम हुए हैं, वहां शिक्षण संस्थाओं को फिर से खोला जा रहा है। इसी क्रम में जम्मू कश्मीर सरकार ने भी कुछ शर्तों के साथ स्कूलों को खोले जाने की इजाजत दे दी है।

    जानकारी के मुताबिक जम्मू कश्मीर सरकार ने कोरोना का टीका लगवा चुके छात्रों के साथ कक्षा 12 के स्कूलों को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोलने की मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही कोविड टेस्ट के बाद डीसी को कक्षा 10 के स्कूलों को खोलने की अनुमति देने के लिए कहा है। प्रतियोगी परीक्षार्थियों को राहत देते हुए कुछ शर्तों के साथ सिविल सेवा, जेईई, एनईईटी के कोचिंग सेंटरों को भी खोलने की इजाजत दे दी है। बता दें कि जम्मू कश्मीर में शनिवार को कोरोनावायरस संक्रमण के 116 मामले आए थे। इसके साथ ही राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,25,830 पहुंच गई है। वहीं एक मरीज की मौत भी हुई है।

    50% for Advertising
    Ads Advertising with us AL News

    राज्य में महामारी से मरने वालों की संख्या 4,410 पर पहुंच गई है। शनिवार को आए नए मामलों में 85 कश्मीर संभाग और 31 मामले जम्मू संभाग से आए हैं। गौरतलब है कि हाल के दिनों में कोरोना संक्रमण के मामले में इजाफा होता दिख रहा है। इससे कोरोना के तीसरी लहर की आशंका जाहिर की जाने लगी है। कुछ राज्यों ने नाइट कोरोना कर्फ्यू को लागू कर दिया है। वहीं बाहर से आने वाले यात्रियों की बिना जांच के राज्य में प्रवेश को वर्जित कर दिया गया है। फिलहाल कुछ शर्तों के साथ सबकुछ एकबार फिर से पटरी पर लौटने लगी है। उम्मीद की जा रही है इस वर्ष छात्रों की पढ़ाई सुचारु रूप से चल सकेगी।

    50% for Advertising
    Ads Advertising with us AL News
    Previous newsअगले तीन दिनों में इन राज्यों में होगी भारी बारिश
    Next newsअवध क्षेत्र से है यूपी में किसान आन्दोलन का ख़ास नाता
    इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here