लखीमपुर नहीं पहुंच पाया कोई भी सियासी दिग्गज मगर TMC ने किया कमाल, जानिए कैसे दिया पुलिस को चकमा

Lakhimpur Kheri Violence: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) की अगुवाई वाले तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के नेताओं ने लखीमपुर खीरी हिंसा (Lakhimpur Kheri Hinsa) में मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात करके सभी सियासी दलों पर बाजी मार ली। टीएमसी सांसदों के प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को मृत किसानों के परिजनों से मुलाकात की।

ऐसे में हर किसी के दिलों दिमाग में यह सवाल कौंध रहा है कि जहां समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav), कांग्रेस (Congress) महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi), छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) समेत कोई नेता नहीं पहुंच सका वहां आखिर टीएमसी सांसदों का दल कैसे पहुंच गया।

लखीमपुर खीरी की चारों ओर की सीमाओं पर पुलिस की सख्त निगरानी के बावजूद टीएमसी सांसदों का मृत किसानों के घरों तक पहुंचना सचमुच आश्चर्यजनक माना जा रहा है। मृत किसानों के परिजनों से मुलाकात के बाद टीएमसी सांसदों के प्रतिनिधिमंडल ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने इस अभियान में कैसे कामयाबी हासिल की।

टीएमसी के दल में शामिल थे कई सांसद

लखीमपुर खीरी की हिंसा में मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात करने वाले टीएमसी के प्रतिनिधिमंडल में सांसद सुष्मिता देव (Sushmita Dev), काकोली घोष दस्तीदार (Kakoli Ghosh Dastidar), अबीर रंजन विश्वास (Abir Ranjan Biswas), प्रतिभा मंडल (Pratibha Mandal) और डोला सेन (Dola Sen) शामिल थे। मुलाकात के बाद टीएमसी सांसदों ने एक इंटरव्यू में खुलासा किया है कि उन्हें भी अन्य सियासी दलों के नेताओं की तरह पुलिस की ओर से रोका गया था। मगर उन्होंने पर्यटक बनकर पुलिस कर्मियों को चकमा देने में कामयाबी हासिल की। उन्होंने इतनी चतुराई से पुलिसकर्मियों से बातचीत की कि पुलिसकर्मी उनकी असलियत नहीं पकड़ सके।

टीएमसी नेता डोला सेन ने खुलासा किया कि पार्टी सांसदों का दल रविवार से ही लखीमपुर खीरी पहुंचने की कोशिश में जुटा हुआ था। मगर पुलिसकर्मियों को चकमा देकर मृत किसानों के परिजनों तक पहुंचने में दो दिन लग गए। उन्होंने कहा कि परिजनों तक पहुंचने के लिए उन्हें काफी मेहनत करनी पड़ी मगर उन्होंने हार नहीं मानी और अंत में अभियान में कामयाबी मिल गई।

दिल दहलाने वाली घटना

टीएमसी सांसदों के दल ने सबसे पहले पलिया तहसील के मृत किसान लवप्रीत सिंह (Lovepreet Singh) के परिजनों से मुलाकात की। 19 वर्षीय लवप्रीत सिंह का पूरा परिवार घटना के बाद से बदहवास और शोकाकुल है। इसके बाद टीएमसी सांसदों में धौरहरा तहसील जाकर दूसरे मृतक किसान के परिजनों से मुलाकात की। टीएमसी सांसदों के दल के पहुंचने पर परिजनों ने रो-रो कर पूरी घटना का ब्योरा बताया। मुलाकात के बाद टीएमसी सांसदों ने बताया कि मृत किसानों के परिजनों से मिलकर वे भी पूरी तरह गमगीन हो गए।

टीएमसी के प्रतिनिधिमंडल में शामिल राज्यसभा सांसद सुष्मिता देव ने कहा कि लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए युवा किसानों के परिजनों से मिलकर हमारे दिल पर भी गहरा असर पड़ा है। उन्होंने कहा कि पूरी घटना की दास्तान दिल दहलाने वाली है। हमने शोकाकुल परिवार को ढांढस बंधाने की पूरी कोशिश की।

Leave a Comment