Jammu Kashmir Encounter Today: घाटी में 2 आतंकियों का खात्मा, सेना को मिली बड़ी सफलता, ऑपरेशन अभी भी जारी

Jammu Kashmir Encounter Today: जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में भारतीय सेना (Indian Army) ने आतंकवाद के खात्मे के लिए मोर्चा संभाल लिया है। बढ़ते आतंकी गतिविधियों को देखते हुए सुरक्षाबलों ने दहशतगर्दों के खिलाफ अभियान (Aatank Ke Khilaf Abhiyan) छेड़ दिया है और अब जवान फाइनल वॉर की तैयारी में जुट गए हैं। इसी क्रम में शोपियां जिले में सेना और आतंकी के बीच एनकाउंटर (Shopian Encounter) छिड़ गया है। दोनों ओर से गोलियां बरसाई जा रही हैं। बताया जा रहा है कि सुरक्षाबलों ने तीन आंतकियों को घेर रखा था, जिसमें से दो को ढेर कर दिया गया है।

जाहिर है कि घाटी में एक बार फिर से आतंकी एक्टिव (Terrorist Active In Jammu Kashmir) हो गए हैं। साथ ही स्थानीय नागरिकों पर भी खुलेआम प्रहार कर रहे हैं। जिसके बाद सेना ने आंतकियों पर आखिरी प्रहार के लिए कमर कस ली है और नागरिकों को भी अलर्ट (High Alert In Jammu Kashmir) कर दिया गया है कि वो अपने घरों से बाहर न निकलें। आपको बता दें कि सुरक्षाबल के आतंकवाद निरोधक अभियान को कल 9 दिन पूरे हो गए हैं। जबकि आज शोपियां में भी एनकाउंटर छिड़ गया है।

NIA ने की छापेमारी (NIA Raids)

जहां एक ओर शोपियां में एनकाउंटर जारी है तो वहीं दूसरी ओर NIA ने आज जम्मू कश्मीर के 11 ठिकानों पर छापेमारी की है। आतंकवाद की साजिश का इनपुट मिलने के बाद NIA ने श्रीनगर, बारामूला, पुलवामा, अवंतीपोरा, सोपोर और कुलगाम में छापेमारी की है। इसके साथ ही जानकारी मिली है कि जम्मू कश्मीर में गत 5 अक्टूबर को हुए हत्याकांड की जांच अब एनआईए करेगी। ज्ञात हो कि जम्मू कश्मीर के लालबाजार में दवा बिक्रेता व भेलपुरी बिक्रेता वीरेंद्र की आतंकियो ने हत्या कर दी थी।

एनआईए के डीजी के जम्मू कश्मीर में ही कर रहे हैं कैम्प

जम्मू कश्मीर में अक्तूबर माह में अचानक से बड़ी आतंकी घटनाओं को लेकर भारत सरकार बेहद सक्रिय भूमिका में आ गयी है। जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजी व एनआईए डीजी के बीच जम्मू कश्मीर में कई दौर की बैठकें हो चुकी हैं। आगे भी इन बैठकों का दौर जारी रहेगा। एनआईए के डीजी कुलदीप सिंह इस समय जम्मू कश्मीर में ही कैम्प कर रहे हैं।

गृहमंत्री का जम्मू दौरा (Amit Shah Ka Jammu Daura)

जम्मू कश्मीर के मौजूदा ताजा हालातों का जायजा लेने के लिये आगामी 23 अक्तूबर को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी जम्मू कश्मीर के दौरे पर जा रहे हैं।वे वहां सेना के अधिकारियों,जम्मू कश्मीर पुलिस व एनआइए के डीजी के साथ बैठक कर जम्मू कश्मीर के मौजूदा हालातों की समीक्षा करेंगे केंद्रीय गृह मंत्री अनित शाह भी आतंकी घटनाओं के मद्दे नजर देश के सभी राज्यों के डीजीपी, अर्धसैनिक बलों के महानिदेशक, खुफिया विभाग व गृह मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक कर चुके हैं।

अक्टूबर में हुईं 11 हत्याएं (Jammu Kashmir Mein Hatya)

एक आकंडे के मुताबिक गत 2 अक्तूबर से लेकर अब तक कश्मीर घाटी में आतंकी 11 लोगों की हत्याएं (Jammu Kashmir Mein Murder) कर चुके हैं। ये सभी गैर कश्मीरी लोग हैं। जिनको आतंकियों ने मौत के घाट उतार दिया है। इन घटनाओं के पीछे आतंकियो की यही मंशा है कि घाटी में गैर कश्मीरी लोग न रहें। आतंकी संगठनों के निशाने पर गैर मुस्लिम, गैर कश्मीरी, प्रवासी मजदूर, सुरक्षा बलों के जवान हैं।

अब तक मारे गए 183 आतंकी (Terrorists Killed In Jammu)

जम्मू कश्मीर में तैनात भरतीय सेना के जवान देश की सुरक्षा को लेकर बेहद सतर्क हैं। इस वर्ष आतंकियो से हुई मुठभेड़ में जम्मू कश्मीर के विभिन्न इलाकों में अब तक 183 आतंकी मार गिराये गए हैं। जबकि अक्तूबर माह में 13 आतंकी सेना ने मार गिराए हैं।इन मुठभेड़ों में हिजबुल का भी आतंकी मारा गया था। सीमा सुरक्षा बलों के जवानों ने एक आतंकी को इस अक्तूबर माह में गिरफ्तार किया है। घाटी में आतंकी संगठनों के छह मददगारों को भी एसएसबी के जवानों ने गिरफ्तार किया है।

सेना के पांच जवान भी हुए शहीद

अक्तूबर माह में घाटी में सेना के जवानों पर छिपकर किये गए आतंकी हमले में एक जेसीओ समेत सेना के 5 जवान शहीद हो गए हैं। गत 10 अक्तूबर को आतंकियो ने सेना के जवानों पर गोलीबारी की थी। जिसमें एक जेसीओ समेत चार जवान घायल हो गए थे। जिनकी बाद में अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गयी।

घाटी में तीन आतंकी संगठन हैं सक्रिय

घाटी में तैनात खुफिया एजेंसियों ने जम्मू कश्मीर में इस समय तीन आतंकी संगठनों के सक्रिय होने की जानकारी दी है। इन तीनों आतंकी संगठनों के नाम हैं- पहला है टीआरएफ, दूसरा है यूएलएफ, व तीसरा है हरकत 313।ये तीनो ही संगठन घाटी में गैर मुस्लिम व गैर कश्मीरी लोगों की हत्याएं करने में लगे हैं।

Leave a Comment