‘मैंने रची थी PM मोदी के हत्या की साजिश’, 1 करोड़ के इनामी नक्सली प्रशांत बोस का खुलासा

Jharkhand : झारखंड पुलिस द्वारा गिरफ्तार एक करोड़ रुपए के इनामी माओवादी प्रशांत बोस (Prashant Bose) ने पूछताछ में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। इनामी नक्सली ने बताया, कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश हो या छत्तीसगढ़ के झीरम घाटी में सुरक्षाबलों पर हमले, हर साजिश का मास्टरमाइंड वही है।

बता दें, कि बीते दिन नक्सली संगठन भाकपा माओवादी (CPI Maoist) ने शीर्ष नक्सली कमांडर प्रशांत बोस (Prashant Bose) उर्फ किशन दा तथा उनकी पत्नी शीला मरांडी (Sheela Marandi) को गिरफ्तार किया गया था। उनकी गिरफ़्तारी के विरोध में 20 नवंबर 2021 को CPI Maoist ने भारत बंद (Bharat Bandh) बुलाया है। भाकपा माओवादी के पूर्वी रिजनल ब्यूरो के प्रवक्ता संकेत ने एक प्रेस विज्ञप्ति के जरिए ये जानकारी दी है।

इस बारे में झारखंड के डीजीपी नीरज सिन्हा ने बताया, कि नक्सली नेता प्रशांत बोस ने पूछताछ में जो जानकारियां उपलब्ध करवाई वह एक तरह से महासागर जैसी है। मतलब, पुलिस को इतनी जानकारियां मिली हैं कि अगर उस पर काम किया जाए तो पूरे माओवाद का ढांचा ही खत्म किया जा सकता है। डीजीपी ने बताया उनसे मिली सूचनाओं का विश्लेषण किया जा रहा है।

बोस पर कई राज्यों में केस दर्ज

झारखंड के डीजीपी ने बताया, कि प्रशांत बोस भाकपा माओवादी संगठन के जनक की भूमिका में रहा है। बीते पांच दशकों की उसकी सक्रियता रही है। प्रशांत बोस पर झारखंड, बिहार, महाराष्ट्र, ओडिशा, छत्तीसगढ़ सहित कई राज्यों में केस दर्ज हैं। बतौर ‘सेकंड इन कमांड’ देश के सारे बड़े नक्सली कांड को प्रशांत बोस ने मंजूरी दी है। जानकारी के अनुसार, प्रशांत बोस के खिलाफ झारखंड में 50 जबकि, उसकी पत्नी शीला मरांडी के खिलाफ 18 मामलों में केस दर्ज हैं। इस संबंध में डीजीपी सिन्हा ने बताया, कि बिहार, छत्तीसगढ़ सहित अन्य राज्यों में बोस के खिलाफ दर्ज केस की जानकारी जुटाई जा रही है।

20 नवंबर को भारत बंद

दूसरी तरफ, नक्सली संगठन भाकपा माओवादी (CPI Maoist) की तरफ से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है, कि प्रशांत बोस उर्फ किशन दा संगठन के पोलित ब्यूरो के सदस्य और पूर्वी रीजनल ब्यूरो के सचिव हैं। उन्हें और उनकी पत्नी शीला मरांडी को 12 नवंबर 2021 को उस वक्त गिरफ्तार किया गया था, जब वे अपना इलाज कराने जा रहे थे। इन दोनों की उम्र और बीमारियों का जिक्र करते हुए उनकी रिहाई की मांग की गई है। विज्ञप्ति में कहा गया है, कि इन दोनों की गिरफ्तारी के खिलाफ 15 से 19 नवंबर तक ‘प्रतिरोध दिवस’ मनाया जाएगा और 20 नवंबर 2021 को भारत बंद का आयोजन किया जाएगा।

विद्याचरण शुक्ल और महेंद्र करमा की हत्या में भी शामिल

पूछताछ में नक्सली बोस ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी की हत्या की साजिश भी रची गई थी। जिसका मास्टरमाइंड प्रशांत ही था। इसके अलावा साल 2013 में छत्तीसगढ़ में 30 कांग्रेसी नेताओं की हत्या में भी उसकी भूमिका थी। बता दें कि इसी हमले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता विद्याचरण शुक्ल और महेंद्र कर्मा सहित 30 कोंग्रेसी नेता मारे गए थे। प्रशांत बोस से पूछताछ करने वाले अधिकारियों के मुताबिक, पुणे में भीमा कोरेगांव हिंसा में भी इसका हाथ था। एनआईए की चार्जशीट में भी बोस का नाम सामने आया था।

Leave a Comment