गणतंत्र दिवस परेड को लेकर दिल्ली पुलिस के दिशा-निर्देश जारी, 15 साल से कम उम्र के बच्चों को अनुमति नहीं

दिल्ली पुलिस द्वारा जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने वाले लोगों को कोविड के खिलाफ पूरी तरह से टीका लगा होना चाहिए और 15 साल से कम उम्र के बच्चों को समारोह में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी। पुलिस ने यह भी कहा कि 26 जनवरी को राजपथ पर होने वाले कार्यक्रम में लोगों को फेस मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाए रखने जैसे सभी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। दिल्ली पुलिस ने ट्वीट किया कि एंटी-कोरोनावायरस वैक्सीन की दोनों डोज का होना जरूरी है। आगंतुकों से अनुरोध है कि वे अपना टीकाकरण प्रमाण पत्र लाएं।

15 साल से कम उम्र के बच्चों को अनुमति नहीं 

इसमें कहा गया है कि समारोह में 15 साल से कम उम्र के बच्चों को अनुमति नहीं है। राष्ट्रीय कोविड टीकाकरण कार्यक्रम, जो शुरू में पिछले साल 16 जनवरी को स्वास्थ्य देखभाल और अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं के साथ शुरू हुआ था, इस महीने से, 15-18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों का टीकाकरण शुरू हो गया है। दिल्ली पुलिस ने दिशा-निर्देशों को सूचीबद्ध करते हुए ट्वीट किया कि आगंतुकों के लिए सुबह 7 बजे सीटिंग ब्लॉक खुलेंगे और उनसे तदनुसार पहुंचने का अनुरोध किया। चूंकि पार्किंग सीमित है, इसलिए आगंतुकों को कारपूल या टैक्सी का उपयोग करने की सलाह दी गई है। उन्होंने कहा कि उनसे एक वैध पहचान पत्र ले जाने और सुरक्षा जांच के दौरान सहयोग करने का भी अनुरोध किया जाता है।

मार्चिंग दस्ते में नजर आएगा वर्दी व राइफलों का विकास

बीते दशकों में भारतीय सेना की वर्दी और राइफलें कैसे विकसित हुई हैं इसे इस साल की गणतंत्र दिवस परेड में प्रदर्शित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि देश की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने पर ‘आजादी के अमृत महोत्सव’ के तहत गणतंत्र दिवस परेड-2022 में भारतीय सेना की तीन मार्चिंग टुकड़ी पिछले दशकों की वर्दी पहनेगी और राइफल लेकर कदमताल करेंगी, जबकि एक दस्ता नई युद्धक वर्दी पहनेगा और नवीनतम टेवोर राइफल लेकर राजपथ पर कदमताल करता दिखेगा।

Leave a Comment