फारुख अब्दुल्ला का तालिबान प्रेम, नई सरकार पर दिया ये विवादित बयान

Farooq Abdullah Statement On Talibani Sarkar: अफगानिस्तान (Afghanistan) में आखिरकार तालिबान सरकार (Talibani Sarkar) का गठन हो चुका है। तालिबान ने कल यानी मंगलवार की शाम अपनी नई सरकार का एलान किया और इसकी बागडोर मुल्ला हसन अखुंद (Mullah Hassan Akhund) को दे दी है। अब इस बीच जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस प्रमुख फारुख अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) का तालिबान प्रेम देखने को मिला है।

समय समय पर पाकिस्तान के प्रति अपना प्रेम जाहिर करने वाले फारुख अब्दुल्ला ने अब तालिबान के प्रति अपना प्रेम जाहिर किया है। दरअसल, अब्दुल्ला ने बुधवार को श्रीनगर में उम्मीद जताई है कि अफगानिस्तान में तालिबान अच्छे ढंग से हुकूमत चलाएगा। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान एक अलग देश है और जो वहां पर आए हैं, उन्हें अब उस मुल्क को संभालना होगा। उम्मीद करता हूं कि वे सभी से इंसाफ करेंगे और इस्लामी उसूल पर अच्छी हुकूमत चलाएंगे।

इसलिए अब्दुल्ला के बयान की हो रही चर्चा

अब्दुल्ला ने यह भी कहा कि उन्हें सभी देशों के साथ दोस्ताना बनाने की कोशिश करनी चाहिए। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला का यह विवादित बयान इसलिए भी चर्चा का विषय बना हुआ है क्योंकि एक धर्मनिरपेक्ष देश के नेता इस्लामिक उसूलों के सरकार की तरफदारी कर रहे हैं।

किसे मिली कौन सी जिम्मेदारी?

आपको बता दें कि तालिबान ने अपनी सरकार का एलान करते हुए प्रधानमंत्री मुल्ला हसन अखुंद को, मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को डिप्टी पीएम, मुल्ला याकूब को नया रक्षा मंत्री और अमीर मुत्तकी को विदेश मंत्री बनाया है। वहीं, नए मंत्रिमंडल की घोषणा के कुछ घंटे बाद ही तालिबान के धार्मिक नेता ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि या मंत्रिमंडल तुरंत अपना काम शुरू कर देगा।

Leave a Comment