भारत में तेज़ी से फैल रहा ओमिक्रोन, तंजानिया से दिल्ली लौटा शख्स ओमिक्रोन संक्रमित

Delhi Omicron Cases Today: कुछ दिनों पूर्व ही तंज़ानिया (Tanzania) से वापस दिल्ली लौटा शख्स ओमिक्रोन संक्रमित (Omicron infected) मिला है। यह दिल्ली में ओमिक्रोन का पहला मामला (First Omicron Case In Delhi) है, वहीं भारत में अबतक ओमिक्रोन के कुल 05 मामले सामने आए हैं।

दिल्ली में इस मामले की सूचना देते हुए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने बताया कि-” आज दिल्ली में ओमिक्रोन का पहला केस प्राप्त हुआ है। बीते कुछ दिनों पूर्व ही यह शख्स तंजानिया से वापस दिल्ली लौट है तथा इस व्यक्ति को एलएनजेपी अस्पताल (LNJP Hospital) में भर्ती कराया गया है। इसके अतिरिक्त अबतक कोविड के लिए सकारात्मक परीक्षण करने वाले कुल अन्य 17 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बीते दिनों देश में नए कोरोना वेरिंएट (Corona New Variant) के दो मामले सामने आए थे, जिसमें एक ज़िम्बाब्वे से गुजरात स्तिथ जामनगर आने वाले शख्स में और दूसरा दक्षिण अफ्रीका से महाराष्ट्र स्तिथ मुम्बई आने वाले शख्स में प्राप्त हुआ है।

इन आंकड़ों से साथ दिल्ली में आज प्राप्त हुआ ओमिक्रोन संक्रमण का मामला देश का 5वाँ केस है। बीते कुछ दिनों से देश में आ रहे ओमिक्रोन मामलों के चलते स्वास्थ्य मंत्रालय काफी सतर्क हो गया है, ओमिक्रोन से बचाव के लिए कई दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

दुनिया भर में प्रभावी रूप से फैल रहे ओमिक्रोन के खतरे के चलते विदेश यात्राओं और विदेश से आने वाले यात्रियों को लेकर नए नियम लागू कर दिए गए हैं। दुनिया में ओमिक्रोन का पहला मामला 25 नवम्बर को दक्षिण अफ्रीका में दर्ज दिया गया था जिसके बाद लगभग सभी देशों ने दक्षिण अफ्रीका को यात्रा पर विराम लगा दिया है।

विदेश यात्रा कर भारत आने वाले लोगों के लिए दिशानिर्देश

नए दिशानिर्देशों के मुताबिक, कोरोना और कोरोना के नए वेरिएंट से अत्यधिक जोखिम वाले देशो के यात्रियों को देश में आगमन के बाद एयरपोर्ट पर ही कोविड परीक्षण करवाने तथा परीक्षण के परिणामों की प्रतीक्षा करना अनिवार्य होगा और यदि यात्री का कोविड परीक्षण नकारात्मक रहता है तो उन्हें 7 दिन तक क्वारंटाइन रखा जाएगा और उसके बाद 8वें दिन उनका पुनः कोविड परीक्षण कर आगे की प्रक्रिया सुनिश्चित की जाएगी।इसके अलावा सकारात्मक परीक्षण वाले विदेशी यात्रियों को तत्काल प्रभाव से आइसोलेशन में रखा जाएगा और उनमें ओमिक्रोन की पुष्टि के लिए उनके सैंपल को जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजा जाएगा।

Leave a Comment