# COVID wave 2 || क्या हो रहा है भरत के इस देश को ..

20

अतुल्य लोकतंत्र के लिए वरिष्ठ पत्रकार ज्ञानेन्द्र सिंह रावत की कलम से..

प्रस्तुति : दीपक शर्मा शक्ति•
कोरोना महामारी की भयावहता अब चरम पर है। हालत यह है कि जो यह कहते नहीं थकते थे कि भारत विश्व गुरू बनने की राह पर अग्रसर है, और यही नहीं सुपर पावर बन चुका है, उन्हीं की सरकार का तंत्र इस महामारी के आगे बेबस नजर आ रहा है। सबसे अधिक दुखदायी तो यह रहा कि चुनावी सत्ता की लालसा का परिणाम इतना भयावह हुआ जिसने कोरोना के विस्तार में आग में घी का काम किया। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकडे़ सबूत हैं कि एक अप्रैल से चौदह अप्रैल के बीच असम में कोरोना संक्रमितों की तादाद में पांच सौ सैंतीस से तीन हजार तीन सौ अठानवे, तमिलनाडु में पच्चीस हजार दो सौ चवालीस से बढ़कर पैंसठ हजार चार सौ अठ्ठावन, केरल में तीस हजार से इकसठ हजार, पुडुचेरी में चौदह सौ से तीन हजार और पश्चिम बंगाल में आठ हजार बासठ से बढ़कर कोरोना संक्रमितों की तादाद इकतालीस हजार नौ सौ सत्ताइस तक जा पहुंची। इसी बात का डर सबको खाये जा रहा था कि सत्ता की चाहत का इतना घिनौना रूप सामने आयेगा जो स्थिति को इतनी भयावह बना देगा। दरअसल यह आंकडा़ तो चौदह अप्रैल तक का है, उसके बाद जब अप्रैल के आखिरी हफ्ते में जब रैलिया माननीय प्रधानमंत्री जी ने बंद कर दीं, उसके बाद के आंकडे़ तो अभीतक सामने आये ही नहीं हैं, जब वह सामने आयेंगे तो जो भयावह तस्वीर सामने आयेगी, वह बेहद चौंकाने वाली और डरावनी तथा भयानक होगी जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी। असली मायने में यह सत्ता का चुनावी विस्फोट था जिसने लाशों का अंबार बनाने में सबसे अहम भूमिका निबाही। इसके असली किरदार थे हमारे विकास पुरुष प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जो सोनार बांग्ला को शमशान बांग्ला बनाकर ही चैन से बैठे। है ना गर्व की बात।

सबसे बडी़ विडम्बना तो देखिए कि जो राष्ट्रवाद की दुहाई देते नहीं थकते थे, वही इस संकट की इस घडी़ में कोरोना उपचार से जुडी़ जीवनरक्षक दवाइयों, चिकित्सा उपकरणों, आक्सीजन, फल आदि खाद्य पदार्थों , यहां तक प्लाज्मा की कालाबाजारी करने वालों, जमाखोरों,मुनाफाखोरों के खिलाफ कार्यवाही करने के नामपर मौन साधे बैठे हैं। होना तो यह चाहिए था कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्यवाही होती लेकिन सरकार इस सबसे आंख मूंदे बैठी है। जाहिर है ऐसे लोगों को प्रभावशाली लोगों, सांसद,मंत्री आदि नेताओं का वरदहस्त प्राप्त है।जबकि दवाओं, इंजैक्शन, आक्सीजन के अभाव में हजारों की तादाद में रोजाना लोग दम तोड़ रहे हैं। लेकिन हमारी सरकार मरने वालों का सही आंकडा़ तक देश के सामने नहीं आने दे रही है। जबकि असलियत में कोरोना से देश में अब तक दो लाख एक हजार एक सौ सत्तासी से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं और दुनिया में हमारा देश सर्वाधिक मौतों वाला चौथा देश बन चुका है। जबकि अमरीका पांच लाख सत्तासी लाख, ब्राजील तीन लाख पचानवे हजार और मैक्सिको में अब तक कोरोना से दो लाख पन्द्रह हजार मौतें हो चुकी हैं। ऐसा लगता है शीघ्र ही हम पहले पायदान पर आ जायेंगे। तभी हमारा विश्व गुरू बनने का सपना पूरा होगा और तभी देश के अच्छे दिन आयेंगे। शायद आजादी के इन सात दशकों में वह स्वर्णिम दिन होगा।

देश के हालात पर नजर दौडा़एं तो पता चलता है कि यहां अंत्येष्टि स्थल पर फोटोग्राफी पर बंदिश है। यही नहीं एम्बुलैंस के अभाव में लोग शव को ठेले, साइकिल, मोटर साइकिल तक पर ले जाने को मजबूर हैं। हालत इतनी खराब है कि रोगी को अस्पताल ले जाने और वहां से घर लाने के लिए एम्बुलैंस वाले जहां के सात-आठ सौ लगते थे, वहां के चार हजार और जहां के चार-पांच हजार लगते थे, वहां के चालीस-पैंतालीस हजार और उससे भी ज्यादा वसूल रहे हैं। दुख तो यह है कि यह सब जानते-समझते हुए कि यह महामारी न सांसद, मंत्री, विधायक, राज्यपाल, पत्रकार, अफसर,साधारण कर्मचारी, नौकर किसी में कोई भेद नहीं कर रही, हरेक को अपनी चपेट में ले रही है और मरने वालों का आसानी से परिवार वाले अंतिम संस्कार तक नहीं कर पा रहे हैं। वहां भी चौबीस घंटे की वेटिंग चल रही है और तो और निकृष्टता का नमूना यह भी है कि वहां भी वसूली करने से लोग बाज नहीं आ रहे। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के राजघाट का मामला इसका सबूत है जहां अंतिम संस्कार के लिए पंद्रह हजार की मांग की गयी वह भी पुलिस वाले से उसकी पत्नी के अंतिम संस्कार के लिए।फिर भी लूट-खसोट, मुनाफाखोरी, कालाबाजारी और जमाखोरी का बाजार अपने चरम पर है। आज सच्चाई यह है कि मानवता और नैतिकता केवल दिखावे की वस्तु बनकर रह गयी है। ऐसा लगता है नर पिशाचों का साम्राज्य है। हालात इसके जीते जागते सबूत हैं। वह बात दीगर है कि कुछ व्यक्ति, संस्थायें ऐसे विषम दौर में भी इंसानियत का परिचय दे रही हैं और राहत कार्यों को बखूबीअंजाम दे रही हैं। हमें उन पर गर्व है।

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार एवं पर्यावरणविद हैं।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here