गांधी जयंती के दिन कांग्रेस कर सकती है धमाका, कन्हैया कुमार और मेवानी की पार्टी में एंट्री की तैयारी

Political News: कम्युनिस्ट पार्टी के नेता और जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार की जल्द ही कांग्रेस में एंट्री होने वाली है। इस मुद्दे पर कन्हैया कुमार की राहुल गांधी से दो बार गंभीर मंत्रणा हो चुकी है। दोनों बार बातचीत के दौरान चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर भी मौजूद थे। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि कन्हैया कुमार की एंट्री के संबंध में सब कुछ तय किया जा चुका है। बस औपचारिक एलान ही बाकी रह गया है।

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पहले शहीद भगत सिंह की जयंती 28 सितंबर को कन्हैया कुमार की कांग्रेस में एंट्री की तारीख तय की गई थी । मगर अब इसे बढ़ाकर गांधी जयंती यानी 2 अक्टूबर को कर दिया गया है। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि इसी दिन गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी भी कांग्रेस में शामिल होंगे। इन दोनों युवा नेताओं को 2024 की सियासी जंग के मद्देनजर कांग्रेस में शामिल करने की तैयारी है। कन्हैया कुमार को लेकर काफी दिनों से अटकलें लगाई जा रही हैं मगर अब सूत्रों के मुताबिक सब कुछ तय हो चुका है।

बिहार में कांग्रेस का बड़ा सियासी दांव

दरअसल, कन्हैया कुमार के जरिए कांग्रेस बिहार में बड़ा सियासी दांव चलने की फिराक में है। बिहार कांग्रेस के प्रवक्ता असित नाथ त्रिपाठी कन्हैया कुमार के मुद्दे पर कुछ भी खुलकर बोलने को तैयार नहीं हैं। उनका कहना है कि इस बारे में कोई भी बयान पार्टी हाईकमान की ओर से ही जारी किया जाएगा। वैसे उनका यह जरूर कहना है कि 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के दिन पार्टी में सभी गांधीवादियों का स्वागत किया जाएगा।

उनका यह भी कहना है कि यदि गांधी जयंती के दिन कन्हैया कुमार पार्टी में शामिल होते हैं तो हम उनका भी स्वागत करने के लिए तैयार है। कांग्रेस नेता के इस बयान को बड़ा संकेत माना जा रहा है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि है 2 अक्टूबर को ही कन्हैया कुमार कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण करेंगे।

कम्युनिस्ट पार्टी से दूर हो चुके हैं कन्हैया

2019 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद से ही कन्हैया कुमार कम्युनिस्ट पार्टी की गतिविधियों से दूरी बनाकर चल रहे हैं। पिछले दिनों उन्होंने कम्युनिस्ट पार्टी के मुख्यालय में अपना दफ्तर भी खाली कर दिया था। इसके बाद से ही उनके पार्टी छोड़ने की अटकलें लगती रही हैं। पार्टी की ओर से उन पर अनुशासनहीनता का आरोप भी लगाया जा चुका है। कम्युनिस्ट पार्टी की हैदराबाद में हुई बैठक के दौरान उनके खिलाफ अनुशासनहीनता के मामले में निंदा प्रस्ताव भी पारित किया गया था।

 

Leave a Comment